Covid-19 Update

2,01,054
मामले (हिमाचल)
1,95,598
मरीज ठीक हुए
3,446
मौत
30,082,778
मामले (भारत)
180,423,381
मामले (दुनिया)
×

अपना ही मौसम बना रही है ऑस्ट्रेलियाई जंगलों में लगी भीषण आग, जानें कैसे

अपना ही मौसम बना रही है ऑस्ट्रेलियाई जंगलों में लगी भीषण आग, जानें कैसे

- Advertisement -

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलियाई जंगलों (Australian forests) में लगी भीषण आग (fire) इन दिनों चर्चा का विषय बनी हुई है। ऑस्ट्रेलियाई मौसम विज्ञान ब्यूरो ने बताया कि स्थानीय जंगलों में लगी भीषण आग अपना मौसम कैसे बना रही है। दरअसल, गर्म हवा और धुंआ जब काफी ऊपर पहुंचते हैं तो कम वायुमंडलीय दबाव के कारण ठंडे होकर बादल बनने लगते हैं। वहीं, अस्थिर वातावरण में तूफान उत्पन्न हो सकता है और बिजली कड़कने से आग और बढ़ सकती है।


View this post on Instagram

When bushfires make their own weather, they generate ‘pyrocumulonimbus’ clouds and storms. These can cause dangerous and unpredictable changes in fire behaviour, making the fire more difficult and hazardous to fight. This is how they form: 1. A plume of hot, turbulent air and smoke rises. 2. Turbulence mixes cooler air into the plume, causing it to broaden and cool as it rises. 3. When the plume rises high enough, low atmospheric pressure causes its air to cool and cloud to form. 4. In an unstable atmosphere a thunderstorm can develop: pyrocumulonimbus cloud 5. Rain in the cloud evaporates and cools when it comes into contact with dry air, producing a downburst. 6. Lightning may be produced and can ignite new fires. #bureauofmeteorology #pyrocumulonimbus #severeweather #vicfires #nswfires #ausfires #australianbushfires #instaweather #instascience #stormscience

A post shared by Bureau of Meteorology (@bureauofmeteorology) on

ऑस्ट्रेलियाई ओपनर डेविड वॉर्नर ने सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की, जिसमें समुद्र तट पर बैठा एक शख्स और कुत्ता ऑस्ट्रेलिया के जंगलों की आग को देख रहे हैं। उन्होंने लिखा, ‘मैंने यह तस्वीर देखी और मैं अब भी स्तब्ध हूं, ये आग शब्दों से परे है, हर दमकलकर्मी से वॉलंटियर से हर परिवार, हम आपके साथ हैं, आप सच्चे हीरो हैं।’

बता दें कि ऑस्ट्रेलियाई जंगलों में लगी आग से निकले धुएं के कारण न्यूज़ीलैंड के ग्लेशियर के भूरे होने की तस्वीरें सामने आई हैं। मौसम पूर्वानुमान बताने वाली न्यूज़ीलैंड की ‘मेटसर्विस’ ने कहा, ‘2000 किलोमीटर दूर से तैस्मन सागर पार कर आया धुआं साफ-साफ देखा जा सकता है।’ सितंबर में शुरू हुई आग से ऑस्ट्रेलिया में अबतक कम-से-कम 18 मौतें हो चुकी हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है