Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

दियारगी हादसा : जख्म ऐसे जो सताते रहेंगे जिंदगी भर

दियारगी हादसा : जख्म ऐसे जो सताते रहेंगे जिंदगी भर

- Advertisement -

Diyaragi accident: सुंदरनगर। चंद दिन पहले बेटे के सैटल होने की खुशी मनाने वाला बाप आज गम के समुद्र में पूरी तरह से डूब चुका है। हालांकि बुढ़ापे का सहारा बनने के लिए एक बेटा मौत को मात देकर बच निकाला है, लेकिन हर रोज अपने बड़े भाई के साथ मस्ती करने वाला छोटा बेटा बीबीएमबी की गहरी नहर में खो चुका है। बाप का रो-रो कर बुरा हाल है। ऐसा मंजर इस अकेले परिवार के साथ नहीं हुआ है। दियारगी हादसे के बाद लापता चारों लड़कों के परिजन हताश हैं।

Diyaragi accident: किसी के परिवार का सहारा छीना तो किसी का भाई

दियारगी कार हादसा में किसी ने अपना भाई खोया तो किसी ने अपने जीवन का एकमात्र सहारा। अपने बेटों में आने वाले जीवन की आस की ढूंढ रहे 19 वर्षीय अभिषेक के पिता मोहन बीबीएमबी फायर सर्विस में है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से पैरालाइसिस के चलते बीमार है। अभिषेक मां बाप व छोटी बहन का लाडला था। जमा दो की परीक्षा पास करने के बाद वह आईटीआई कर रहा था। पूरा परिवार सदमे में है। लाचारी के चलते परिजन उसे ढूंढ़ने घर से भी नहीं निकल पाए। वहीं हादसे में एक मात्र बच गए 20 वर्षीय पुनीत गुप्ता पुत्र जगदीश गुप्ता निवासी दियारगी मर्चेंट नेवी में कार्यरत है। हाल ही में छुट्टी पर घर आया हुआ था।


हादसे में वह अपने सगे भाई 19 वर्षीय हिमांशु संग कार में सवार था। हिमांशु ने हाल ही में ड्राफ्ट्समैन का डिप्लोमा किया था और छुट्टी पर आए अपने बड़े भाई 20 वर्षीय पुनीत सहित अन्य दोस्तों संग दयारगी जा रहा था। हादसे उपरांत उनके घर व गांव में सनाटा छाया हुआ है। परिजन व भाई सदमे में है।

पिता का रो-रो कर बुरा हाल

वहीं 22 वर्ष का सोनू साहू पुत्र जीवन साहू मूल रूप से भुजगर रायटोली तहसील बानो जिला गुमला झारखंड का रहने वाला था और तीन भाइयों में सबसे बड़ा है। नहर में लापता होने उपरांत उसके पिता का रो-रो कर बुरा हाल है। वह किसी भी सूरत में अब बेटे को देखना चाहता है। जीवन साहू एचपीएसइबी में कार्यरत है। 20 वर्षीय आदित्य पुत्र ब्रह्पाल के पिता आनंदपुर साहिब में पीएसइबी में कार्यरत है। आदित्य की बहन भी घटना स्थल पर पहुंच कर अपने भाई के लिए फूट-फूट कर रो रही है। बहरहाल, दियारगी हादसे ने तीन परिवारों को ऐसे जख्म दिए हैं, जिसे वह सारी उम्र नहीं भूल पाएंगे। गौर रहे कि शुक्रवार रात बीबीएमबी नहर में कार के गिरने से चार युवक लापता हो गए थे, जिनकी तलाश में अभी भी सर्च अभियान जारी है।

नहर में गई कार, चार लापता, एक ने तैर कर बचाई जान

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है