Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

सावधान! माइग्रेन को इग्नोर किया तो बढ़ सकता है खतरा

सावधान! माइग्रेन को इग्नोर किया तो बढ़ सकता है खतरा

- Advertisement -

आप ने बहुत से ऐसे लोगों को देखा होगा जो माइग्रेन को छोटी- मोटी बीमारी समझ कर टाल देते हैं। वे न तो इसे गंभीरता से लेते हैं और न ही इसका उचित उपचार कराते हैं। पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को माइग्रेन की समस्या ज्यादा होती है और बहुत कम महिलाएं ऐसी हैं जो इसका उपचार कराती हैं। होता यह है कि वे इसे एक सामान्य बीमारी समझकर पेन किल्लर खा लेती है।  इसे तब तक अनदेखा करती हैं। जब तक यह किसी गंभीर बीमारी का रूप नहीं ले लेता है। जो सही नहीं है। 

माइग्रेन ग्रस्त लोगों को नियमित तौर पर सिरदर्द के दौरे पड़ते हैं। अक्सर यह दर्द कान और आंख के पीछे अथवा कनपटी में होता है। वैसे यह दर्द सिर के किसी भी भाग में हो सकता है। इससे कुछ लोगों के देखने की क्षमता भी कम हो जाती है। इसकी शुरुआत बचपन, किशोरावस्था या वयस्क होने पर कभी भी हो सकती है। कभी-कभी उल्टी, जी मिचलाना आदि की शिकायत भी हो सकती है। अगर उपचार न हो तो यह दर्द 4-5 घंटों तक रह सकता है।


बचने के लिए क्या करें

  • सिरदर्द होने वाले कारणों से बचना चाहिए, जैसे ऊंची आवाज में गाने सुनना, तनावग्रस्त रहना आदि।
  • दर्दनिवारक दवाओं का कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए। संतुलित दिनचर्या का पालन करना चाहिए। समय पर सोना व जगना चाहिए।
  • नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। बहुत ज्यादा देर तक भूखे नहीं रहना चाहिए। बहुत तेज व चुभने वाली रोशनी से बचना चाहिए।

  • ज्‍यादा से ज्‍यादा पानी पीना चाहिए। साथ ही ठंडे पानी की पट्टी सिर पर रखने से भी राहत मिलती है।
  • माइग्रेन से ग्रस्‍त रोगी को जंक फूड और डिब्‍बा बंद आहार से परहेज करना चाहिए। पनीर, चॉकलेट, चीज, नूडल्स और केले में ऐसे रासायनिक तत्व पाए जाते हैं जो माइग्रेन को बढ़ा सकते हैं।
  • माइग्रेन की परेशानी होने पर सिर के दर्द वाले हिस्‍से में पिपरमेंट ऑयल की मालिश करने से राहत मिलती है। साहित्‍य में भी पिपरमेंट के तेल से होने वाले फायदों का जिक्र किया गया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है