Covid-19 Update

57,257
मामले (हिमाचल)
55,919
मरीज ठीक हुए
961
मौत
10,689,202
मामले (भारत)
100,486,817
मामले (दुनिया)

Doctors Strike: धरती के भगवानों को ढूंढते रहे लोग पर निराशा ही लगी हाथ

Doctors Strike: धरती के भगवानों को ढूंढते रहे लोग पर निराशा ही लगी हाथ

- Advertisement -

टीम। अगर हम डॉक्टरों का धरती का भगवान कहे तो यह कोई गलत नहीं होगा। लोगों को ऊपर वाले भगवान के बाद धरती के इन भगवानों पर ही भरोसा होता है। लेकिन, आज प्रदेश भर में डॉक्टरों के सामूहिक अवकाश पर चले जाने से लोग अस्पतालों में धरती के भगवानों को ढूंढते रहे पर उनके हाथ निराशा ही लगी।  प्रदेशभर में डॉक्टरों के सामूहिक हड़ताल पर जाने के चलते राज्यभर के अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं आज बुरी तरह से चरमरा गई। डॉक्टरों के छुट्टी पर जाने से राज्य के सभी मेडिकल कालेजों और अस्पतालों में ओपीडी बंद रही और इस कारण मरीजों को परेशानी झेलनी पड़ी। इन अस्पतालों में तैनात करीब अढाई हजार डॉक्टरों के छुट्टी पर जाने के चलते यह अव्यवस्था रही। प्रदेश में करीब 700 अस्पतालों में डॉक्टर्स नहीं आए। आज सोमवार होने के कारण कई स्थानों से मरीज अस्पताल में आए थे। कईयों को डॉक्टरों ने खुद आज बुलाया था। इसके साथ-साथ कईयों को टेस्ट लिए थे और आज दिखाने थे, लेकिन ओपीडी में कोई डाक्टर न होने से उन्हें परेशानी झेलनी पड़ी। आईजीएमसी में 80 फीसदी तक ओपीडी में आज कोई डॉक्टर नहीं थे।

  • प्रदेश में डॉक्टरों की हड़ताल के चलते इधर-उधर भटकते दिखे मरीज
  • हड़ताल के चलते इमरजेंसी सेवाएं ही रहीं बहाल, वह भी नाकाफी
  • प्रदेश में करीब 700 अस्पतालों में नहीं  आए डाक्टर्स

इसके अलावा आज करीब 50 ऑपरेशन टल गए। आईजीएमसी में इन दिनों विंटर वेकेशन चला है। इस कारण अस्पताल के आधे सीनियर डॉक्टर छुट्टी पर होते और आधे सीनियर चिकित्सकों से ही काम चलाना पड़ता है। इस कारण अस्पताल में सीनियर डॉक्टरों की कमी रही। ऐसी ही स्थिति कमला नेहरू अस्पताल और डीडीयू अस्पतालों की भी रही। डीडीयू में कोई ओपीडी नहीं चली और मरीजों को इधर-उधर भटकना पड़ा। केएनएच में केवल इमरजेंसी सेवाएं ही चली। आईजीएमसी में भी आपातकालीन सेवाएं ही चली। कई मरीज इमरजेंसी में भी गए, लेकिन वहां चिकित्सकों ने केवल इमरजेंसी मरीजों को ही देखा और उनका इलाज किया। वहीं आपरेशन भी हड़ताल के कारण आज टालने पड़े। आपरेशन थियेटर में भी सीनियर डॉक्टर के सहायक रेजिडेंट डॉक्टर ही होते हैं। संघ कल यानी 24 जनवरी से 2 फरवरी तक 10 दिनों तक तक काले बिल्ले लगाकर विरोध जताया जाएगा। 3 से 12 फरवरी तक सुबह 9 से 11 बजे तक हर दिन दो घंटे पेन डाउन स्ट्राइक होगी। 13 फरवरी को डॉक्टर्स फिर से सामूहिक अवकाश पर जाएंगे। डॉक्टर्स ने चेतावनी दी है कि यदि इसके बावजूद सरकार उनकी मांगें नहीं मानती तो 24 फरवरी को सभी मेडिकल ऑफिसर्स सामूहिक त्यागपत्र देने को मजबूर होंगे।

नाहन डॉ. वाईएस परमार मेडिकल कॉलेज नाहन में  डॉक्टर्स के अवकाश पर जाने का व्यापक असर देखने को मिला।लोग सेवाओं के लिए  इधर-उधर भटकते नजर आए। मेडिकल कॉलेज  नाहन में प्रतिदिन करीब 800 से 1000 ओपीडी लगती है, ऐसे में आज यहां पहुंचने वाले मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।  गौर हो की मेडिकल कॉलेज नाहन  जिला का सबसे बड़ा स्वास्थ्य संस्थान है। अंदाजन यहां लोग प्रतिदिन भारी संख्या में इलाज करवाने पहुंचते हैं। हालांकि आज यहां इमरजेंसी सेवाए बहाल नजर आईं। वहीं, डॉक्टर्स ने चिकित्सा अधिकारी संघ के तले गेट मीटिंग कर अपना विरोध जताया।

सोलन के क्षेत्रीय अस्पताल के आपातकालीन सेवा में मात्र एक चिकित्सक के सहारे चल रहा था। इसके इलावा हिमाचल मेडिकल ऑफिसर एसोसिएशन के आह्वान पर पूरे प्रदेश सहित सोलन क्षेत्रीय अस्पताल के करीब 17 चिकित्सक प्रदेश में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसक घटनाओं ओर उनकी लंबित पड़ी मांगों के चलते आज सामूहिक अवकाश पर रहे। अस्पताल में कोई भी ओपीडी नहीं चल रही थी, मात्र इमरजेंसी सेवाएं ही उपलब्ध थी।  हालांकि, कंपकपाती ठंड के बीच लोग सुबह से ही अस्पताल में अपने रुटीन चेकअप व फॉलोअप के लिए यहां पहुंचे, लेकिन उन्हें मायूसी ही हाथ लगी।

सोलन क्षेत्रिय अस्पताल के चिकित्सक के चिकित्सा अधिकारी आशीष चौहान ने बताया कि हिमाचल मेडिकल ऑफिसर एसोसिएशन के आह्वान पर आज सोलन क्षेत्रीय अस्पताल के चिकित्सक भी सामूहिक अवकाश पर हैं। उन्होंने कहा कि मंगलवार को काले बिल्ले लगाकर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। उधर, कुल्लू अस्पताल में भी इलाज करवाने पहुंचे मरीजों का खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। आलम यह है कि कई मरीजों को तो निजी क्लीनिकों का रुख करना पड़ा। 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है