Covid-19 Update

2,01,049
मामले (हिमाचल)
1,95,289
मरीज ठीक हुए
3,445
मौत
30,067,305
मामले (भारत)
180,083,204
मामले (दुनिया)
×

#Food_Product के लेबल पढ़कर ना खाएं धोखा, #सावधानी से खरीदें खाने का हर सामान

फूड प्रोडक्ट के लेबल पर लिखे 'नैचुरल' शब्द को समझने की जरूरत

#Food_Product के लेबल पढ़कर ना खाएं धोखा, #सावधानी से खरीदें खाने का हर सामान

- Advertisement -

कोरोना ने हमारे लाइफस्टाइल को काफी हद तक बदल कर रख दिया है। लोग आज के समय में हेल्दी और फिट (Healthy and Fit) रहने की कोशिश कर रहे हैं। आजकल लोगों में फैट फ्री, शुगर फ्री या कॉलेस्ट्रोल फ्री प्रोडक्ट खरीदने की होड़ लगी हुई है। आप बाजार से ये सब चीजें मंगवा तो लेते हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि बाजार में मिलने वाले ये प्रोडक्ट्स वाकई में शुगर और फैट फ्री हैं भी या ये कोई बिजनेस ट्रिक है। फूड प्रोडक्ट्स (Food Products) पर छपी जानकारी देखते समय आपको कुछ विशेष बातों पर जरूर ध्यान देना चाहिए वरना फिट रहने की जगह आपको इसका नुकसान भी हो सकता है ..

यह भी पढ़ें: सर्दियों में #Immunity के साथ कहीं बढ़ ना जाए आपका वजन, ट्राई करें ये Superfood

इम्यून बूस्टिंग – एक्सपर्ट कहते हैं कि इम्यूनिटी को बूस्ट करने वाला कोई प्रोडक्ट बाजार में उपलब्ध नहीं है। शरीर अपने तरीके से रोगजनक वायरस और संक्रमण से निपटता है। फल, सब्जी, पानी या कुछ खास चीजें आपके शरीर को हाइड्रेट या गर्म रखती हैं। इससे इम्यूनिटी दुरुस्त हो सकती है, लेकिन किसी भी प्रोडक्ट का इम्यूनिटी से डायरेक्ट कनेक्शन नहीं होता है।


नैचुरल फूड – सेहतमंद रहने के लिए नैचुरल फूड का इस्तेमाल करना सही है, लेकिन फूड प्रोडक्ट के लेबल पर लिखे ‘नैचुरल’ को भी समझने की जरूरत है। अक्सर लोगों को लगता है कि नैचुरल का मतलब है- ‘नो प्रेस्टीसाइड्स’, ‘नो कैमिकल्स’, ‘नो एंटीबायोटिक्स’। दरअसल बाजार में बिकने वाले ज्यादातर प्रोडक्ट्स की कोई गारंटी नहीं कि ये नैचुरल हैं यो प्रोसेस्ड।

फैट फ्री – फैट हमारे शरीर का दुश्मन नहीं है। कई स्टडी में ये बात साबित हो चुकी है। इसके बावजूद लोग बिना सोचे-समझे लो फैट और फैट फ्री फूड प्रोडक्ट खरीद रहे हैं। शायद आपको मालूम नहीं कि फैट की मात्रा कम करने के लिए कंपनियां जो विकल्प तलाशती हैं, उनसे भी सेहत को नुकसान है। फैट की जगह क्वांटिटी बैलेंस करने के लिए वे शुगर या नमक की मात्रा बढ़ा सकते हैं।

शुगर फ्री – क्या आप जानते हैं शुगर फ्री प्रोडक्ट में रेगुलर शुगर की बजाए सॉर्बिटॉल, मैनिटॉल, जाइलीटॉल जैसे शुगर एल्कोहल मिलाए जाते हैं। ये सभी चीजें पेट की गड़बड़ी या डायरिया की समस्या पैदा कर सकती हैं।

सोडियम – अगर आपको ब्लड प्रेशर की समस्या है और आप खाने में नमक कम ले रहे हैं तो फूड प्रोडक्ट के लेबल पर कुछ चीजों पर जरूर ध्यान दें। इन प्रोडक्ट्स में मोनोसोडियम ग्लूाटामेट (एमएसजी), सी सॉल्ट, सोडियम सीट्रेट, कोशर सॉल्ट, डीसोडियम आइनोसीनेट जैसे इनग्रिडिएंट्स भी नहीं होना चाहिए।

डिटॉक्स और क्लीजिंग – क्या आप जानते हैं आपकी बॉडी खुद-ब-खुद नैचुरली डिटॉक्सीफाई होती है। शरीर में किडनी और लिवर इसका काम करते हैं। इन्हें दुरुस्त रखने के लिए आप अंडा, मछली, हरी पत्तेदार सब्जियां और खट्टे फलों का सेवन कर सकते हैं। लेकिन बाजार में बॉडी डिटॉक्सीफाई और क्लीजिंग के नाम पर बिकने वाले प्रोडक्ट्स धोखा हो सकते हैं।

हाई फ्रक्टोस कॉर्न सिरप – प्रोडक्ट को शुगर फ्री बनाने के लिए कई कंपनियां हाई फ्रक्टोस कॉर्न सिरप का इस्तेमाल करती हैं। कई स्टडी में ऐसा दावा हो चुका है कि ह्यूमन बॉडी हाई फ्रक्टोस कॉर्न सिरप को अलग तरह से मेटाबोलाइज करती है। इससे हमारी सेहत को बड़े नुकसान भी हो सकते हैं।

कॉलेस्ट्रोल फ्री – बाजार में कॉलेस्ट्रोल फ्री प्रोडक्ट मुनाफाखोरों की एक ट्रिक हो सकती है। क्या आप जानते हैं कि सिर्फ एनिमल प्रोडक्ट्स में ही कॉलेस्ट्रोल पाया जाता है। मांस, अंडे या डेयरी प्रोडक्ट्स में कॉलेस्ट्रोल होता है। हरी सब्जियों या फलों में ये नहीं होता है। इसलिए यदि आपको कोई वेजिटेरियन प्रोडक्ट कॉलेस्ट्रोल फ्री बताकर बेच रहा है तो वो फर्जीवाड़ा है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है