Covid-19 Update

58,460
मामले (हिमाचल)
57,260
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,046,914
मामले (भारत)
113,175,046
मामले (दुनिया)

दो घंटे तक बंद रहे ज्वालामुखी मंदिर के कपाट, बाहर श्रद्धालु हुए परेशान

दो घंटे तक बंद रहे ज्वालामुखी मंदिर के कपाट, बाहर श्रद्धालु हुए परेशान

- Advertisement -

रविन्द्र चौधरी/ ज्वालामुखी। शक्तिपीठ ज्वालामुखी के कपाट 2 घंटे तक बंद रहे मंदिर के कपाट। मामला आज यानी बुधवार का है जब 2 घंटे तककपाट बंद रहे। वैसे तो दोपहर की आरती, भोग व मंदिर की सफाई के लिए 11.30 बजे से12.30 बजे तक रोजाना मंदिर के कपाट बंद होते हैं लेकिन आद 11:30 बजे से 1:30 बजे तक कपाट बंद रहे । इस वजह से बाहर दर्शन करने वालों की लंबी कतारें लगी और श्रद्धालु भीषण गर्मी में परेशान होते रहे।


यह भी पढ़ें: मणिमहेश यात्रा बाधित : चट्टान का हिस्सा टूटकर सड़क पर आ गिरा

इसके पीछे का कारण सफाई कर्मी का छुट्टी पर होना बताया जा रहा है। उक्त कर्मचारी मणिमहेश यात्रा पर गया था। जब दूसरे कर्मचारी को सफाई के लिए कहा तो उसने सफाई करने से मना कर दिया। इस पर पुजारियों ने मंदिर में सफाई की। उसके बाद माता ज्वालामुखी को भोग लगाया गया व आरती की गई। इस पूरे मामले पर कोई भी मंदिर प्रशासन व पुजारी बोलने के लिए तैयार नहीं है।

ज्वालामुखी मंदिर में टूटी थी सदियों पुरानी परंपरा भी टूटी थी

बताया जा रहा है कि 12 अगस्त सोमवार को मंदिर में बिना शहनाई-नरसिंगा के ही दोपहर की आरती हुई थी। इस दौरान भी कर्मी गायब हो गए थे। आरती के दौरान शहनाई वादकों के ड्यूटी से गायब रहने पर मंदिर अधिकारी तहसीलदार बीडी शर्मा काफी नाराज हुए। उन्होंने तत्काल मंदिर कार्यालय को आदेश दिए कि शहनाई वादकों की अनुपस्थिति लगाई जाए और इस मामले को अनुशासनहीनता के दायरे में लाकर शहनाई वादकों के खिलाफ नोटिस निकाले जाएं। साथ ही नोटिस में उनसे जवाब मांगा जाए।

सदियों से चली आ रही परंपरा को तोड़ा गया है, जो अति निंदनीय व अक्षम्य है। मंदिर न्यास ने नगाड़ा वादक, शहनाई वादक व नरसिंगा वादक को मंदिर के कर्मचारियों के रूप में तैनात किया है । उनको मंदिर से अच्छा वेतन अन्य कर्मचारियों की तरह ही मिलता है, परंतु कुछ समय से शिकायतें आ रही थी कि कुछ कर्मचारी ड्यूटी पर अकसर गायब रहते हैं । सोमवार को तो अनुशासनहीनता की हद हो गई, जब सभी कर्मचारी आरती के दौरान गायब पाए गए। माता की आरती के दौरान शहनाई व नरसिंगा वादक मंदिर में तैनात नहीं थे, जिससे यात्रियों व स्थानीय लोगों की आस्था को भी ठेस लगी है। मंदिर न्यास सदस्य शैलेश शर्मा ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि मंदिर के सभी कर्मचारियों को अपनी ड्यूटी ईमानदारी से करनी चाहिए।

मंदिर अधिकारी ने सुरक्षा प्रभारी मंदिर रवि दत्त भारद्वाज को मौके पर भेजा तो वहां पर कोई भी शहनाई वादक नहीं था केवल नगाड़़ा वादक ही था। घटना का पुजारी वर्ग ने भी कड़ा संज्ञान लिया है। मंदिर अधिकारी तहसीलदार बीडी शर्मा ने कहा कि इस मामले में कड़ा संज्ञान लिया गया है। अनुपस्थित शहनाई वादकों का एक दिन का वेतन काटा जाएगा, वहीं उनको नोटिस देकर जवाब भी मांगा जाएगा । यदि उनके जवाब से मंदिर न्यास संतुष्ट न हुआ, तो कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। वहीं इस पूरे प्रकरण पर राज्य योजना बोर्ड उपाध्यक्ष एवं ज्वालामुखी के विधायक रमेश ध्वाला ने जांच के आदेश दिए हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है