Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,380,438
मामले (भारत)
227,512,079
मामले (दुनिया)

हिमाचल की इस डॉक्टर ने liver की आरटरी की क्वाइलिंग करके मरीज को दी नई जिंदगी

हिमाचल की इस डॉक्टर ने liver की आरटरी की क्वाइलिंग करके मरीज को दी नई जिंदगी

- Advertisement -

शिमला। इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के रेडयोलॉजी विभाग में तैनात सहायक प्रोफेसर (Assistant Professor at IGMC Shimla) डॉ शिखा सूद ने एक बार फिर इतिहास रचा है। इस बार उन्होंने जिला शिमला के कोटखाई के बगदा से आए 66 साल के अमर सिंह को हपैटिक आरटरी की क्वाइलिंग करके नई जिंदगी दी है। यह उपचार पहली बार आईजीएमसी में हुआ है। अमर सिंह की गंभीर अवस्था को देखते हुए तुंरत उसका सीटी स्कैन और अल्ट्रासाउंड किया गया जिसमें इस बीमारी का पता चला कि उसकी पित की थैली में तीन सेंटीमीटर की पत्थरी है जो पित की थैली को चीरती हुई पित की नली में फंस गई है… यही नहीं इसके साथ ही पत्थर ने साथ ही पड़ी हपैटिक आरटरी को भी चीर दिया जिसके कारण मरीज की हालत गंभीर हुई और उसे सूडोएन्यूरिज्म हो गया। ऐसी गंभीर अवस्था में मरीज में खून नसों से बाहर एकत्रित हो जाता है तथा किसी भी समय फट जाने से मरीज की मौत होने की आशंका बढ़ जाती है। … ऐसी स्थिति में मरीज का ऑपरेशन नहीं किया जा सकता।

यह भी पढ़ें: जयंती विशेष : अंतिम समय में Dr. YS Parmar के बैंक खाते में 563 रुपए 30 पैसे थे

 

हिमाचल प्रदेश के लिए और इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज के लिए यह गर्व की बात है कि डॉ शिखा पहली ऐसी डाक्टर हैं जिन्होंने हाल ही में एम्स न्यू दिल्ली में इंटरवेंशन रेडयोलॉजी में प्रशिक्षा प्राप्त की है। उन्होंने गैस्टोइन्टैस्टाइनल रेडियोलॉजी में फैलोशिप की है। यहां आईजीएमसी में पुन: कार्यभार संभालने के बाद डॉ शिखा ने विभाग में हार्डवेयर की व्यवस्था करवाई और इस मरीज का उपचार करके उन्हें नई जिंदगी दी। यहां बता दें कि डॉ शिखा इसके अलावा अन्य कई और तरीके के इंटरवेशनस कर रही है जो कि प्रदेश के उच्चतम शिक्षण संस्थान आईजीएमसी में पहली मर्तबा हो रही है।

यह भी पढ़ें: UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2019 : फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह Topper

डॉ शिखा सूद (Dr. Shikha sood) अभी तक कई मरीजों का उपचार बिना चीर फाड़ के कर चुकी हैं। उन्होंने मरीज की टांग की नस से जाते हुए हपैटिक आटरी तक पहुंच कर सूडोएन्यूरिज्म को मेन आरटिरयल फलो से अलग कर दिया। साढ़े चार घंटे तक चला यह ऑपरेशन पूरी तरह सफल रहा…। डॉ शिखा ने बताया कि उपचार के दौरान मरीज पूरी तरह होश में था और सामने रखे मॉनिटर में स्वयं का ऑपरेशन होता देख रहा था। यहां तक मरीज डॉ शिखा द्वारा दी गई वरबल कमांडस को भी फॉलो कर रहा था। डॉ शिखा ने बताया कि आरटीज की क्वाइलिंग शरीर के किसी भी हिस्से में जहां कहीं भी सूडोएन्यूरिजम बन गया हो, की जा सकती है…। यह सूडोएन्यूरिजम टयूमर, टामा, इन्फेक्शन या इनफलेमिशन के कारण बन सकते हैं।

 

 

डॉ शिखा ने बताया कि मरीज अब एक दम स्वस्थ है और चल फिर भी रहा है। मरीज ने स्वयं भोजन करना आरंभ कर दिया है…। उन्होंने बताया कि सर्जन को अब बता दिया गया है कि उनके द्वारा मरीज की बीमारी को खत्म कर दिया गया है और अब वह उसकी सर्जरी कर सकते हैं। गौरतलब है कि डॉ शिखा सूद ने हाल ही में इससे पहले भी मरीजों को नई जिंदगी दी है, उन्होंने पीटीबीडी विद इन्जरनेलाइजेशन करके भी आईजीएमसी में एक नया कीतीर्मान स्थापित करते हुए नए तरीके के ऑपरेशनों का दौर आरंभ कर दिया है। उन्होंने बताया कि मरीज के उपचार के दौरान उन्होंने अपने दो जूनियर डाक्टर्स डॉ आबोरेशी और डॉ राजेश को इस बीमारी को लेकर पूरा ज्ञान दिया और मरीज को हुई बीमारी को लेकर विस्तार से पढ़ाया। उन्होंने बताया कि इस दौरान उनके साथ ऑपरेशन थियेटर में नर्स सुनीता रेडयोग्राफर तजेन्द्र भी मौजूद रहे। डॉ शिखा ने बताया कि ऐसे मरीजों को अब पीजीआई (PGI) या एम्स जाने की जरूरत नहीं होगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है