Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

बीमारियों से रखनी है दूरी तो बार-बार पीते रहिए पानी

बीमारियों से रखनी है दूरी तो बार-बार पीते रहिए पानी

- Advertisement -

हमारे शरीर के लिए पानी पीना बहुत आवश्यक है। पानी शरीर की सारी गंदगी को बाहर निकाल कर हमारे शरीर को स्वस्थ रखता है। अगर आप एक हेल्दी लाइफस्टाइल (Lifestyle) जीना चाहते हैं तो जरूरी है बार-बार पानी पीना। डॉकटरों का मानना है कि पानी एक डिटर्जेंट की तरह है जो हमारे शरीर में सफाई का काम करता है। शरीर की हर कोशिकाएं सही ढंग से काम कर सकें इसके लिए पानी की बहुत जरूरत पड़ती है। आइए जानते हैं कि डिहाइड्रेशन यानी पानी की कमी से हमारे शरीर को किस तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
शरीर में पानी की कमी हो जाने पर कोशिकाएं मस्तिष्क को इस बात का संकेत भेजती हैं कि आपको प्यास लगी है। सिर्फ 2 फीसदी डिहाइड्रेशन भी ध्यान से करने वाले किसी काम को बिगाड़ सकता है। डिहाइड्रेशन का असर यादाश्त पर भी पड़ता है। बता दें कि डिहाइड्रेशन का सीधा असर मूड और परफॉर्मेंस से भी जुड़ा होता है। जिस कारण इलेक्ट्रोलाइट का स्तर बहुत कम हो जाता है जो दिमाग में कई तरह की दिक्कतें पैदा कर सकता है। इलेक्ट्रोलाइट (Electrolyte) पोटेशियम (Potassium) और सोडियम (Sodium) जैसे मिनरल्स (Minerals) हैं जो कोशिकाओं के बीच सिग्नल भेजने का काम करती है। अगर आपके इलेक्ट्रोलाइट्स बहुत कम हैं तो वो कोशिकाओं को संकेत भेजने का काम नहीं कर सकेंगे और इसकी वजह से मांसपेशियों में खिंचाव से लेकर दौरे पड़ने तक की समस्या आ सकती है।

जब शरीर में पानी की कमी होती है तो कोशिकाएं हाइपोथैलेमस (Hypothalamus) को एक संकेत भेजती हैं, जो वैसोप्रेसिन नाम का हार्मोन निकालती हैं। इसे एंटीडायरेक्टिक (Antidirectorate) हार्मोन एडीएच (ADH) के नाम से भी जाना जाता है. यह हार्मोन किडनी को खून से कम पानी निकालने का संकेत देता है, जिससे पेशाब कम, गाढ़ा और गहरे रंग का निकलता है.  किडनी खून के प्रमुख फिल्टर हैं और पर्याप्त तरल पदार्थ के बिना वो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर नहीं निकाल पाते हैं। अमेरिकी डॉक्टर का कहना है, ‘आश्चर्यजनक रूप से, आपकी किडनी एक दिन में 55 गैलन तक तरल पदार्थ ले जाने में सक्षम है।’

यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के अनुसार, डिहाइड्रेशन (Dehydration) की गंभीर स्थिति की वजह से हाइपोवॉल्मिक शॉक जैसी इमरजेंसी हालत भी आ सकती है. जहां खून में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी होने लगती है और खून की कमी की वजह से ये पूरे शरीर में नहीं फैल पाता है जिससे कई अंग काम करना बंद कर सकते हैं। इसकी वजह से सिर दर्द, चक्कर, आखों पर दबाव, सेक्स ड्राइव में कमी या फिर नींद ना आने जैसी समस्या हो सकती है। पाचन तंत्र को सही से काम करने के लिए पर्याप्त पानी की जरूरत पड़ती है। पानी के जरिए ही शरीर से अपशिष्ट पदार्थ बाहर आते हैं और पाचन तंत्र दुरूस्त रहता है।

यदि आप ज़्यादा समय तक प्यासे रहते हैं तो किडनी को स्वयं ही मेहनत करनी पड़ती है। नेशनल किडनी फाउंडेशन के अनुसार, इस तरीके से किडनी को चोट आ सकती है और आपको किडनी की बीमारी भी हो सकती है। शरीर में पानी की कमी से पथरी होने की शिकायत भी रहती है। एक क्लिनिक के मुताबिक, जो लोग गर्म, शुष्क मौसम में रहते हैं और जिन लोगों को दूसरों की तुलना में बहुत अधिक पसीना आता है, उन लोगों में ये खतरा ज्यादा पाया जाता है।

शरीर को खून बनाने के लिए तरल पदार्थ की जरूरत होती है. जब शरीर में तरल पदार्थ की कमी हो जाती है तो खून का स्तर भी कम हो जाता है। एक प्रसिद्ध डाइटीशियन कहती हैं, ‘शरीर में उचित ब्लड प्रेशर को बनाए रखने के लिए पर्याप्त तरल पदार्थ की जरूरत होती है।’ शरीर में पानी की कमी की वजह से  हाइपोटेंशन (Hypotension) या लो ब्लड प्रेशर की शिकायत हो सकती है और इसकी वजह से व्यक्ति बेहोश भी हो सकता है।’

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है