Covid-19 Update

59,014
मामले (हिमाचल)
57,428
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,190,651
मामले (भारत)
116,428,617
मामले (दुनिया)

पीलिया का खतराः Shimla में ड्राई स्पैल ने बढ़ाई Tension, पानी के स्रोत सूखे

पीलिया का खतराः Shimla में ड्राई स्पैल ने बढ़ाई Tension, पानी के स्रोत सूखे

- Advertisement -

बारिश न होने से बढ़ी जलजनित रोगों के होने की आंशका

शिमला। राज्य में लंबे समय से बारिश न होने से पेयजल स्रोतों में भी पानी की कमी होनी शुरु हो गई है। बारिश न होने से जलजनित रोगों, यानी पानी से फैलने वाले रोगों का खतरा भी बढ़ गया है। खासकर पीलिया रोग के पांव पसारने की संभावना दिनों दिन बढ़ रही है। इसे देखते हुए शिमला में भी नगर निगम हरकत में आया है। राजधानी शिमला पहले ही पीलिया का दंश झेल चुका है। दो वर्ष पहले यहां पर पीलिया रोग की चपेट में हजारों लोग आए और बीमार हुए, जबकि कुछ लोगों को तो जान भी देनी पड़ी। आलम यह था कि सरकार के बड़े नौकरशाह तक इसकी चपेट में आ गए थे। उस समस अश्वनी खड्ड से आने वाले पानी के कारण पीलिया फैला था। बारिश न होने के कारण यह रोग फैला था और सीवरेजयुक्त पानी की सप्लाई होने से रोग घरों में पहुंच गया था। इस बार भी बारिश का ड्राई स्पैल लंबा चला गया है। बारिश न होने से पेयजल स्रोत पर भी पानी का स्तर कम हो गया है। ऐसे में फिर से पीलिया रोग फैलने की संभावना है। इसे देखते हुए शिमला नगर निगम ने एहतियात के दौर पर एडवाइजरी जारी की है।

यह भी पढ़ें…Good News: लटके Power Project का फिर शुरू होगा काम, सरकार कर रही ऊर्जा नीति में बदलाव

पानी उबाल कर पीएं
नगर निगम प्रशासन ने लोगों से कहा है कि वे उबाल कर पानी पीएं। नगर निगम ने लोगों से कहा कि बारिश न होने से जलजनित रोगों का भय बढ़ जाता है। इसे देखते हुए उनकी अपील है कि लोग पानी को कम से कम 20 मिनट उबाल कर पीएं। इसके अलावा पानी की टंकियों को भी समय रहते साफ करें और घरों में बर्तनों को भी अच्छी तरह साफ कर इस्तेमाल करें। नगर निगम की मेयर कुसुम सदरेट ने कहा कि बारिश न होने से जलजनित रोगों के फैलने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए एहतियात बरतनी जरुरी है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे पानी को उबाल कर ही पीएं और पानी की टंकियों का सफाई भी सुनिश्चित बनाएं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है