Covid-19 Update

1,98,583
मामले (हिमाचल)
1,91,025
मरीज ठीक हुए
3,379
मौत
29,510,410
मामले (भारत)
176,764,688
मामले (दुनिया)
×

लो सुनो Private Bus Operators का दर्द! किराया तो बढ़ाया पर सवारियां नहीं बैठ रही

लो सुनो Private Bus Operators का दर्द! किराया तो बढ़ाया पर सवारियां नहीं बैठ रही

- Advertisement -

हमीरपुर/ ऊना। प्रदेश सरकार ने निजी बस ऑपरेटरों( Private Bus Operators) की बात मानते हुए बस किराये में वृद्धि तो की है लेकिन कोरोना वायरस के डर से सहमे लोग सार्वजनिक परिवहन (Public transportation) की बसों में सफर करने से कतरा रहे हैं। इसी के चलते निजी बस ऑपरेटरों को भी दिन भर घाटा उठाना पड़ रहा है। हालांकि हमीरपुर में निजी बस ऑपरेटरों ने सड़कों पर बसें उतार दी है लेकिन सवारियों के नाम पर बहुत कम लोग ही बस में यात्रा  कर रहे हैं, जिसके चलते बस ऑपरेटरों की चिंताएं बढ़ गई है। ऑपरेटर बिना सवारियों के खाली बसों को सड़कों पर दौड़ा रहे हैं, जिससे बस का खर्च भी नहीं निकल रहा है। हमीरपुर बस अड्डे पर बस ऑपरेटरों ने भी सवारियों के न आने पर चिंता जाहिर की है।

ये भी पढ़ेः बस किराया बढ़ोतरी पर हल्ला, Congress ने किया चक्का जाम- CITU की नारेबाजी


ऑपरेटरों का कहना है कि एक तो लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे है, दूसरा अब जब बसों का किराया बढ़ा दिया है, जिससे लोग बसों में यात्रा करने से गुरेज कर रहे है। उन्होंने बताया कि स्कूल-कॉलेज भी बंद होने के कारण बस ऑपरेटर पूरी तरह से घाटा झेल रहे है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले समय में हो सकता है स्थिति ठीक हो जाए।निजी बस आपरेटरों का कहना है कि बसों में सवारियों के न बैठने से बसें खाली ही दौड़ानी पड़ रही है और बस में अगर पांच-छह सवारियां ही यात्रा करें तो बसों का खर्चा कैसे निकल पाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए कि जल्द निजी बस ऑपरेटरों के बारे में कुछ करें।

ऊना में बोले बस मालिक ऐसे ही घाटा पड़ता रहा तो दोबारा खड़ीं करनी पडेंगी बसें

ऊना। करीब चार माह बाद मंगलवार से जिला ऊना में एक बार फिर निजी बसें सड़कों पर दौड़नी तो शुरू हो गईं लेकिन बस मालिकों को पहले ही दिन घाटा पड़ गया है। किराए बढ़ोतरी के बावजूद पड़ रहे घाटे को लेकर एक बार फिर बस मालिक चिंता में पड़ गए हैं। बस मालिकों का कहना है कि अभी भी बसों में सवारियां नहीं चढ़ रही है, जिसके चलते काफी घाटा हो रहा है। बस मालिकों का साफ कहना है कि अगर ऐसे ही हालत रहते हैं, तो पुनरू निजी बसें बंद करनी पड़ेंगी।

बता दें कि जिला ऊना में कोरोना महामारी के चलते 23 मार्च से निजी बस मालिकों ने सेवा बंद कर दी थी। अनलॉक के बाद एचआरटीसी बस सेवा शुरू हो गई थी, लेकिन निजी बस मालिकों ने सेवा बंद रखी थी। अब प्रदेश सरकार द्वारा 25 प्रतिशत बस किराया वृद्धि के बाद निजी बस मालिकों ने बस सेवा शुरू कर दी। लेकिन बसों में सवारियां न होने के कारण बस मालिकों को अपनी जेब ढीली करनी पड़ रही है। बस आपरेटरों की माने तो अगर यही हाल रहा तो उनके लिए बस सेवा को सुचारु रखना मुश्किल होगा।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है