×

बर्फबारी की मारः डुगीलग School का पुराना भवन गिरा, नए को भी नुकसान

बर्फबारी की मारः डुगीलग School का पुराना भवन गिरा, नए को भी नुकसान

- Advertisement -

कुल्लू। जिला में भारी बर्फबारी के जहां जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं, घाटी में कई जगह पर बारिश बर्फबारी के कारण कई मकानों को गिरने का खतरा बना हुआ है । वहीं, डुगीलग सीनियर kulluसेकेंडरी स्कूल का पुराना भवन गिरने से सरकारी संपत्ति को नुकसान हुआ है। पुराने भवन के गिरने के कारण नए भवनों को भी नुकसान हो गया है, जिससे स्कूल में फर्नीचर के साथ साइंस लैब में रखा सामान भी टूट गया है। वहीं, स्कूल प्रिसिंपल रीता ने जानकारी देते हुए कहा कि भवन बहुत पुराना हो गया और जिसके कारण लोक निर्माण विभाग ने सर्वे कर भवन को असुक्षित घोषित किया था। उन्होंने कहा कि स्कूल में बच्चों को बैठने के लिए उचित कमरे ना होने कारण उस भवन में बच्चों को बैठाया जाता था, परन्तु आजकल स्कूल में सर्दी की छुट्टियां चल रही है। इसके कारण कोई जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि पुराने भवन गिरने से नए भवन को भी नुकसान हुआ है, जिसके कारण साइंस लैब का भवन भी असुरक्षित हो गया है और भवन के चारों दीवारों पर दरारें पड़ गई है।


  • स्कूल में फर्नीचर के साथ साइंस लैब में रखा सामान भी टूटा
  • उन्होंने कहा कि स्कूल में दो भवन गिरने से छात्र-छात्राओं को बैठने की दिक्कत हो जाएगी। वहीं, एसएमसी प्रधान अर्जुन ने जानकारी देते हुए कहा कि लोक निर्माण विभाग ने भवन का मौका कर असुरक्षित तो घोषित कर दिया था, परन्तु उसके बाद कोई कार्रवाई नहीं की जिससे स्कूल के दो भवन गिरने से बच्चों को बैठने के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।उन्होंने कहा कि  भारी बर्फबारी बारिश से दो भवन गिर गए हैं,  जिससे सरकारी संपत्ति का नुकसान हुआ है और फर्नीचर व साइंस लैब का सामान को नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रशासन को नए स्कूल भवन का निर्माण करने की जरूरत है, जिससे बच्चों को बैठने की उचित व्यवस्था की जाए।

chamabaबारिश और बर्फबारी से मकान धराशायी

चंबा। बर्फबारी एक तरह जहां राहत लेकर आई है, दूसरी तरह आफत भी अपने साथ लाई है। उपमंडल चुराह की पंचायत गड़फरी में भारी बर्फबारी व उसके बाद लगातार बारिश के चलते एक मकान धराशायी हो गया है। यह मकान आशा राम पुत्र परम राम निवासी खगुड़ा का बताया जा रहा है। तीन कमरों के इस मकान में एक कमरे में परिवार सोता था और एक कमरे में रसोइघर था तथा एक गौशाला थी। मकान बुरी तरह से ध्वस्त हो गया। परिवार और मवेशी ठंड में इसी छत के नीचे गुजारा कर रहे हैं। बीते शुक्रवार को गांव में भारी बर्फबारी हुई थी। इसके बाद फिर लगातार बारिश का दौर जारी रहा, जिसके कारण मकान दोहरी मार को नहीं झेल पाया तथा गिर गया।

  • तीन कमरों का मकान गिरा, पड़ोसियों के घर ली पनाह

जिस समय मकान गिरा, उस वक्त परिवार अपने दैनिक कार्यों के चलते खेतों में गया हुआ था। जैसे ही मकान गिरने की सूचना मिली तो परिवार घर लौट आया। लौटने पर परिवार ने देखा कि मकान गिर चुका है। मकान गिर जाने के कारण आशा राम के परिवार ने फिलहाल तो पड़ोसियों के मकान मे पनाह ली है तथा किसी तरह गुजर-बसर कर रहा है। वहीं, मवेशियों को भी पड़ोसियों की गौशाला में बांधा गया है। यदि गांव में दोबारा भारी बर्फबारी होती है तो उक्त परिवार के लिए मुसीबतें खड़ी हो सकती हैं। पीड़ित परिवार ने प्रशासन की मदद मिलने का इंतजार कर रहा है। उपमंडल चुराह में भारी बर्फबारी से जनजीवन अस्तव्यस्त है। पहाड़ी क्षेत्रों मे भारी बर्फबारी होने के कारण लोगों के लिए मुसीबत बन गया है। भारी बर्फ बारी के कारण कई क्षेत्र मुख्यालय से कट हो चुके हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है