Covid-19 Update

2,01,049
मामले (हिमाचल)
1,95,289
मरीज ठीक हुए
3,445
मौत
30,067,305
मामले (भारत)
180,083,204
मामले (दुनिया)
×

ब्रेकिंगः बागवानी विकास प्रोजेक्ट जांच में ब्रेक !

ब्रेकिंगः बागवानी विकास प्रोजेक्ट जांच में ब्रेक !

- Advertisement -

शिमला। बागवानी के क्षेत्र में सबसे बड़ा विकास प्रोजेक्ट के तहत विदेशों से सेब के पौधे खरीद मामले की जांच पर ब्रेक लगती नजर आ रही है। हालांकि प्रदेश सरकार ने अगस्त महीने में विदेशी कंसल्टेंट को शिमला में तलब किया था। बागवानी विकास परियोजना में हुई अनियमितताओं की जांच में तेजी आ रही थी, लेकिन अब बागवानी मंत्री खुद कह रहे हैं कि जांच चलती रहेगी। उनका फोकस सिर्फ परियोजना में तेजी लाने का है।

प्रदेश सचिवालय में मीडिया से अनौपचारिक बातचीत के दौरान बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि अनियमितताओं की जांच होती रहेगी। उससे पहले विकास परियोजना को नई दिशा देंगे। बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि न्यूजीलैंड की एजेंसी ने ही भारतीय मूल के कई लोगों को कंसल्टेंसी का काम दिया गया। जिस पर 100 करोड़ खर्च किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि सेब के पौधों के आयात को लेकर जो भी अनियमितताएं हुई हैं, इसके लिए पूर्व के बागवानी अफसरों सहित कंसल्टेंसी की जवाबदेही होगी। मंत्री की माने तो हिमाचल के लिए ऐसे प्लांट्स आयात हुए जो प्लांटेशन के लायक नहीं हैं।


उल्लेखनीय है कि पूर्व सरकार के कार्यकाल में इटली से सेब के 7 लाख 55 हजार 250 पौधे 400 रुपये प्रति पौधा से आयात किया गया। जिस पर 32 करोड़ रुपये खर्च किए गए। वह भी गलत समय में प्लांट बांटने का काम किया। सेब के इन पौधों पर भी प्रदेश सरकार अब 16 करोड़ के घाटे के साथ बागवानों को 59 प्रतिशत सब्सिडी देने का निर्णय लिया है। बागवानी मंत्री ने गत दिनों पौधरोपण के लिए निश्चित 10 एकड़ के क्लस्टर की शर्त को हटाने के लिए विभाग को प्रस्ताव तैयार करने को कहा था।

इस साल 1 लाख 20 हजार पौधे वितरित करेगी सरकार

बागवानी विकास परियोजना इस साल सघन बागवानी से जुड़े करीब एक लाख 20 हजार आयातित पौधों को वितरित करेगी। ये पौधे उन किसान बागवानों को दिए जाने हैं जो परियोजना से जुड़े हैं या उन्होंने परियोजना के समक्ष इन विकसित हाई डेंसिटी लांट्स को खरीदने की मांग परियोजना को दी है।

बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि बागवानी विकास प्रोजेक्ट में हुई अनियमितताओं की जांच वक्त आने पर पूरी हो जाएगी, अभी हमारा पूरा फोकस परियोजना को आगे चलाने का है, इस साल बागवानों को 1 लाख 20 हजार पौधे वितरित करेंगे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है