Covid-19 Update

2,05,874
मामले (हिमाचल)
2,01,199
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,579,651
मामले (भारत)
197,642,926
मामले (दुनिया)
×

चंद सेकेंड नहीं EVM हैक करने वालों को चार घंटे

चंद सेकेंड नहीं EVM हैक करने वालों को चार घंटे

- Advertisement -

3 जून से बारी-बारी राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय दलों को दिया जाएगा मौका

Election Commision : नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने ईवीएम से छेड़छाड़ की चुनौती को स्वीकार करते हुए ईवीएम पर सवाल उठाने वालों से दो दो हाथ करने की तैयारी कर ली है। चंद सेकेंड में ईवीएम हैक करने का दावा करने वालों को आयोग 4 घंटे का समय देगा। तीन जून से ईवीएम पर सवाल उठाने वाले राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय दलों को बारी-बारी मौका दिया जाएगा। चुनाव आयोग के मुताबिक सभी 7 राष्ट्रीय दल और 48 राज्य स्तरीय दलों को खुली चुनौती में हिस्सा लेने के लिए 3 जून से बारी-बरी बुलाया जाएगा। इसके लिए आयोग चुनौती स्वीकार करने वाले दलों को हाल ही में संपन्न हुए 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव के किसी भी मतदान केन्द्र की EVM के साथ छेड़छाड़ करने के लिए 4 घंटे का वक्त देगा। हालांकि आयोग ने साफ कर दिया है कि इंटरनल पार्ट्स बदलने नहीं दिया जाएगा, क्योंकि AAP नेता ने चंद सेंकेंड में मदरबोर्ड बदलने का दावा किया था।

आयोग ईवीएम और वीवीपीएटी का दे रहा डेमो

EVM  मशीनों के साथ छेड़छाड़ करने के लगाए जा रहे आरोपों पर चुनाव आयोग ने आज एक खास कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें चुनाव आयोग ईवीएम और वीवीपीएटी का डेमो दे रहा है। जहां इनसे जुड़ी पूरी आशंकाओं के निपटारे के लिए आयोग ने मशीनों के काम करने के तरीके को दिखाया।


वोटिंग मशीन से छेड़छाड़ का कोई ठोस सबूत नहीं

मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा कि पांच राज्यों में चुनाव के बाद EVM को लेकर शंकाएं उठाई गईं,  किसी भी पार्टी ने अब तक वोटिंग मशीन से छेड़छाड़ का कोई ठोस सबूत या मेटेरियल नहीं दिया है।  चुनाव आयोग ने बताया कि VVPAT से मतदाता को दिखेगा की वोट किसे गया। EVM के साथ VVPAT के इस्तेमाल से सभी शंकाएं और फैलाए गए भ्रम दूर हो जाएंगे। अधिकारी ने बताया कि आयोग द्वारा सभी सात राष्ट्रीय दल और 48 राज्य स्तरीय दलों को खुली चुनौती में भाग लेने के लिए बुलाया जाएगा। इसके लिए आयोग चुनौती में शामिल होने के इच्छुक दल को हाल ही में संपन्न हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के किसी भी मतदान केंद्र की मशीन के साथ छेड़छाड़ करने का ऑप्शन चुनने के लिए एक हफ्ते का समय भी देगा। चुनौती स्वीकार करने वाले हर राजनीतिक दल को मशीन में गड़बड़ी करने का अपना दावा सही साबित करने के लिए अलग-अलग मौके दिए जाएंगे।

गुजरात और हिमाचल में भी वीवीपैट युक्त ईवीएम से चुनाव कराने की तैयारी

चुनाव आयोग के अधिकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने आयोग को 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वीवीपैट वाले ईवीएम से वोटिंग कराने की तैयारी करने का आदेश दिया था। इस आदेश के पालन को सुनिश्चित करने के लिए आयोग ने लोकसभा चुनाव से पहले इस साल के अंत में होने वाले गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भी वीवीपैट युक्त ईवीएम से चुनाव कराने की तैयारी कर ली है। दरअसल वीवीपैट मशीन से एक पर्ची निकलती है, जिससे मतदाता को पता चलता है कि उसने जिस उम्मीदवार के पक्ष में ईवीएम का बटन दबाया, उसका वोट उसी को गया।  इससे पहले बहुजन समाज पार्टी (बसपा), कांग्रेस, आम आदमी पार्टी तथा तृणमूल कांग्रेस ने सर्वदलीय बैठक के दौरान ईवीएम में धांधली पर चिंता जताई थी। आप ने निर्वाचन आयोग के ईवीएम को हैक कर दिखाने की चुनौती को स्वीकारने का स्वागत किया है, लेकिन हैकाथन पर जोर दिया। पार्टी ने कहा कि मौका मिलने पर वह साबित करके दिखा देगा कि मशीनों को हैक किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें  : राजनीतिक दलों को चुनौतीः EVM पर Election Commission आज देगा Demo

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है