Covid-19 Update

56,943
मामले (हिमाचल)
55,280
मरीज ठीक हुए
954
मौत
10,566,720
मामले (भारत)
95,173,803
मामले (दुनिया)

आपदा प्रबंधन में प्रशिक्षित होंगे सार्वजनिक व निजी क्षेत्र के Engineer

आपदा प्रबंधन में प्रशिक्षित होंगे सार्वजनिक व निजी क्षेत्र के Engineer

- Advertisement -

Disaster Management : शिमला। सीएम वीरभद्र सिंह ने आपदा जोखिम में कमी लाने के लिए सेंदाई ढांचे के कार्यान्वयन पर दो दिवसीय राज्य स्तरीय सम्मेलन के समापन समारोह के अवसर पर कहा कि सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के इंजीनियर विशेषकर सिविल इंजीनियरों को आपदा प्रबंधन तकनीकों का प्रशिक्षण देना चाहिए, ताकि प्रदेश के शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में आपदा प्रबंधन के आदर्श रूप को लागू किया जा सके।

सेंदाई ढांचे के कार्यान्वयन पर दो दिवसीय राज्य स्तरीय सम्मेलन में बोले

उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत स्तर पर शहरी क्षेत्रों में वार्ड स्तर पर समुदायों को संभावित आपदा बारे जागरुकता व जानकारी प्रदान की जानी चाहिए, ताकि विशेषकर जनसंख्या बाहुल्य क्षेत्रों में आपदा के लिए पर्याप्त तैयारी की जा सके। सीएम ने कहा कि इस सम्मेलन से विचारों तथा अनुभवों का आदान-प्रदान भवनों के निर्माण में बचाव नीति तथा आपदा में कमी व प्रबंधन में सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि आपदा का सुनिश्चित समय जान पाना कठिन है, परन्तु इससे निपटने के लिए तैयार रहने से नुकसान को कम किया जा सकता है। वीरभद्र सिंह ने कहा कि पहाड़ी राज्य होने के कारण हिमाचल प्रदेश में विभिन्न आपदाओं का खतरा बना रहता है। उन्होंने कहा कि आगजनी, बाढ़, भू-स्खलन के अलावा प्रदेश में भूकंप की संभावना भी बनी रहती है। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में प्रदेश के सभी हितधारकों के शामिल होने से भवन सहभागिता के लिए बहुक्षेत्रीय तथा बहु अनुशासनिक प्रणाली को स्थापित करने तथा पुनः स्थिति बहाल करने की नीति अपनाने में भी सहायता मिलेगी।  

जिला स्तर पर आपदा प्रबंधन योजना तैयार

प्रदेश सरकार ने आपदा राहत दिशा-निर्देशों के दृष्टिगत हि.प्र. राहत मैनुअल प्रक्रिया की समीक्षा तथा उन्नयन की पहल की है। प्रदेश में संभावित आपदा के दृष्टिगत राज्य व जिला स्तर पर आपदा प्रबंधन योजना तैयार की गई है। राजस्व विभाग व आपदा प्रबंधन के विशेष सचिव डीडी शर्मा ने कहा कि राज्य स्तरीय सम्मेलन का उद्देश्य पुनः स्थिति बहाल करने की योजना बनाना तथा स्थानीय स्तर पर सेंदाई ढांचे का कार्यान्वयन करना है। अतिरिक्त मुख्य सचिव नरेन्द्र चौहान, संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के आपातकालीन विश्लेषक जी पदमानभन, साख्यिकी विभाग के आर्थिक सलाहकार प्रदीप चौहान, विभिन्न जिलों के उपायुक्त, अतिरिक्त उपायुक्त व अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

वीरभद्र @ तिलकराजः We Have No Connection With Him

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है