Covid-19 Update

1,99,252
मामले (हिमाचल)
1,92,229
मरीज ठीक हुए
3,395
मौत
29,633,105
मामले (भारत)
177,469,183
मामले (दुनिया)
×

यही है वो एकमात्र शख्स जिसकी अस्थियों को चांद पर दफनाया गया-आश्चर्य

यूजीन मर्ले शूमेकर की अस्थियां साल 1999 में चांद पर दफनाई

यही है वो एकमात्र शख्स जिसकी अस्थियों को चांद पर दफनाया गया-आश्चर्य

- Advertisement -

क्या आपको पता है कि दुनिया में एक ही शख्स हुआ,जिसकी अस्थियों को चांद पर दफनाया गया। यूजीन मर्ले शूमेकर (Eugene Merle Shoemaker) की अस्थियां उनकी मौत के दो साल बाद साल 1999 में चांद पर दफनाई (Ashes Buried on the Moon) गई। ना ही तो इससे पहले कभी ऐसा हुआ ना ही उसके बाद। यूजीन मर्ले शूमेकर (US scientist) अमेरिका के वैज्ञानिक थे। उन्हें 20वीं सदी का सबसे महान वैज्ञानिक कहा जाता था,उनके योगदान के लिए साल 1992 में उन्हें तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज एच डब्ल्यू बुश ने विज्ञान के क्षेत्र में राष्ट्रीय पदक से सम्मानित किया था।

ये भी पढ़ें:50 लाख से ज्यादा इंसानों की लाशें दफन हैं यहां-जाने डिटेल एक क्लिक पर


यूजीन मर्ले शूमेकर का जन्म 28 अप्रैल 1928 को हुआ था। उन्होंने कई अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेस के हिसाब से अपने आपको ढालने तथा वहां जाने के लिए प्रशिक्षित किया था। उनको संयुक्त राज्य भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (United States Geological Survey) के खगोल भू-विज्ञान अनुसंधान कार्यक्रम के पहले निदेशक होने का गौरव भी प्राप्त था। उनका पहला मिशन यूटा और कोलोराडो में यूरेनियम के भंडारों की खोज करना था। यूजीन मर्ले शूमेकर ने ज्वालामुखी प्रक्रियाओं (Volcanic Processes) का भी अध्ययन किया। शूमेकर का नाम उन वैज्ञानिकों में शुमार है उन्होंने पता लगाया था कि आखिर 12 किलोमीटर का एक उल्का पिंड जो धरती से टकराया था वो कहां गिरा था। वैज्ञानिकों का मानना है अंतरिक्ष से एक उल्कापिंड हजारों साल पहले धरती से टकराया थाए इस उल्का पिंड ने पृथ्वी पर तबाही मचाई थी। इसी तबाही में (Dinosaurs) डायनासोर के साथ 80 फीसदी से अधिक जीव खत्म हो गए थे।

ये भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के वो देश जिनके पास नहीं है अपनी Army-ऐसे करते हैं सीमाओं की सुरक्षा

यूजीन मर्ले शूमेकर की 18 जुलाई 1997 को एक कार दुर्घटना में मौत हो गई थी। उनकी पत्नी कैरोलिना जीन स्पेलमैन शूमेकर (Carolina Jean Spellman) हादसे में गंभीर रूप से घायल हुई थीं। 90 वर्षीय कैरोलिना जीन भी एक खगोलशास्त्री हैं। बताया जाता है कि अंतरिक्ष पर कई यात्रियों को जाने की ट्रेनिंग देने वाले यूजीन मर्ले शूमेकर का सपना था कि वह भी चांद पर जाएं। हां,ये अलग बात है कि वह जिंदा रहते कभी अपना सपना पूरा नहीं कर पाए थे लेकिन नासा (NASA) ने साल 1997 में उनकी मौत के दो साल बाद साल 1999 में उनकी अस्थियों (Ashes) को चांद पर दफनाया था। इस तरह वह एकमात्र शख्स हुए,जिनकी अस्थियों को चांद पर दफनाया गया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है