Expand

बलूचिस्तान मुद्दे पर पाकिस्तान को यूरोपीय यूनियन का झटका

बलूचिस्तान मुद्दे पर पाकिस्तान को यूरोपीय यूनियन का झटका

- Advertisement -

बलूचिस्तान मुद्दे पर अब पाकिस्तान को यूरोपीय यूनियन की ओर से झटका  लगा है। यूरोपीय यूनियन ने दो टूक शब्दों में साफ कह दिया है कि अगर पाकिस्तान को यूरोपीय देशों के साथ समझौते करने हैं तो उसे बलूचिस्तान को लेकर अपनी नीति बदलनी होगी। यूरोपीय यूनियन ने कहा कि बलूचिस्तान में जो कुछ हो रहा है उसे पाकिस्तान का आंतरिक मामला नहीं माना जा सकता है। यूरोपियन यूनियन का यह बयान तब आया जब बलोच नेता ब्रह्मदाग बुगती और तारेक फतेह ने यूरोपियन पार्लियामेंट के वाइस प्रेसिडेंट रेजार्ड जारनेकी से स्विटजरलैंड में मुलाकात की। जारनेकी के मुताबिक यह पाकिस्तान का आंतरिक मामला नहीं है। हमारे पाकिस्तान के साथ हर तरह के समझौते है। अगर पाकिस्तान ने बलोचिस्तान के लिए अपनी नीति बदली तो हम अपना नजरिया बदलेंगेकुछ करने का यही सही समय है।nawaz2

गौरतलब है कि बलूचिस्तान लंबे समय से पाकिस्तान से अपनी आजादी की मांग कर रहा है। इसके लिए बलोच नेता और वहां की जनता समय-समय पर अपनी आवाजें बुलंद करती हैं। इन आवाजों को दबाने के लिए पाक फौज वहां जबरन बल का प्रयोग कर लोगों पर जुल्म ढ़हाती है। वहीं बलूचिस्तान में चीन ने कई परियोजनाओं में निवेश कर रखा है। इन परियोजनाओं में से एक चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) है। संयुक्त राष्ट्र महासभा में मात खाने के बाद पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। बलोच नेता ब्रह्मदाग बुगती को भारत में शरण देने के मुद्दे पर पाकिस्तान भड़क गया है। ब्रह्मदाग बुगती ने भारत से संरक्षण मांगा है, जबकि पाकिस्तान ने उन्हें मोस्ट वॉन्टेड की लिस्ट में रख रखा है। ऐसे में बुगती को भारत में शरण देने के मुद्दे पर पाकिस्तान ने सख्त ऐतराज जताया है। बता दें कि ब्रह्मदाग बुगती बलूच राष्ट्रवादी नेता और बलूच रिपब्लिकन पार्टी (बीआरपी) के अध्यक्ष हैं। वह बलूचिस्तान में पाकिस्तान के अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाते रहते हैं। बीआरपी पाकिस्तान से बलूचिस्तान को आजाद करने की मांग कर रहा है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है