Covid-19 Update

1,99,467
मामले (हिमाचल)
1,92,819
मरीज ठीक हुए
3,404
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

पति की मौत के बाद भी यहां की महिला नहीं होती हैं विधवा

मध्यप्रदेश के बिहंगा गांव में प्रचलित है ये प्रथा

पति की मौत के बाद भी यहां की महिला नहीं होती हैं विधवा

- Advertisement -

दुनिया में शायद ये एकमात्र गांव होगा जहां कि महिलाएं पति की मौत के बाद भी कभी विधवा (Widow) नहीं होती हैं। कारण सीधा है कि पति की मौत के बाद (After Death of Husband) महिला की दूसरी शादी करवा दी जाती है। ये प्रथा कहीं और नहीं बल्कि मध्यप्रदेश के बिहंगा गांव (Bihanga village of Madhya Pradesh) में प्रचलित है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि पति की मौत के बाद महिला बेसहारा ना रह जाए, उसकी शादी कर दी जाती है। ये गांव अपने आप में रूढ़िवादी सोच से अलग एक अनोखी विधा का निर्वहन कर रहा है।

यह भी पढ़ें: ये है वो नदी जो पहाड़ों से निकलकर समुद्र में नहीं मिलती-पानी हो जाता है विलुप्त

बिहंगा गांव की एक अलग ही कहानी है जो दुनियाभर में मशहूर है। इस अनोखे गांव में महिलाओं के विधवा होने की प्रथा ही नहीं हैं। यहां गोंड जनजाति (Gond Tribe) की महिलाओं के लिए अलग ही तरह की प्रथा चलती हैं। यहां पति के मरने के बाद जरूरी नहीं कि घर में देवर या जेठ हो ही इस जनजाति में अगर शादी लायक नाती-पोते भी होते हैं तो भी उनकी महिला (Woman) से शादी करवा दी जाती हैं। ये वो महिला होती है जिसके पति की मौत हो जाती है। उसे विधवा होने का बोझ ना ढोना पड़े, इसलिए उसकी शादी करवाई जाती है।


यह भी पढ़ें: दुनिया का ऐसा गांव जहां का हर बाशिंदा है करोड़पति

यदि यहां कोई पुरुष शादी करने से इनकार कर देता हैं या फिर कोई पुरुष नहीं होता हैं, तो यहां एक अन्य प्रकार की रीत अपनाई जाती हैं। पति के मरने के दस दिन बाद दूसरे घरों की महिलाएं उस महिला को तोहफे में (Silver Bangle) चांदी की चूड़ी देती हैं और इसे पाटो कहा जाता हैं। इसका मतलब यही होता है कि वह विधवा नहीं है। गांव के लोग ही महिला को विधवा होने से बचाने के लिए उसकी शादी का बंदोबस्त करते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है