Expand

एक गांव ऐसा भी, जहां दो-दो पत्नियां रखने की है परंपरा

every second man in this village has two wives

एक गांव ऐसा भी, जहां दो-दो पत्नियां रखने की है परंपरा

- Advertisement -

जैसलमेर। दोस्तों हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिला में एक महिला के पांच पति होने की प्रथा के बारे में तो आपने सुना होगा। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं हमारे देश भारत के एक ऐसा गांव जहां हर दूसरे पुरुष की दो-दो बीवियां हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं राजस्थान के जैसलमेर के डेरासर ग्राम पंचायत की रामदेयो की बस्ती नामक गांव की, जहां दो-दो पत्नियां रखने की परंपरा है। खास बात ये है कि ये पुरुष अपनी दोनों पत्नियों के साथ रहते हैं। लेकिन दो शादियां करने के पीछे का कारण जान आप भी दंग रह जाएंगे। इस गांव के अधिकतर पुरुषों का दावा है कि उनकी पहली पत्नी या तो गर्भधारण नहीं कर पाई या फिर बेटी को ही जन्म दिया। जिस कारण उन्हें पुत्र की प्राप्ति के लिए दूसरी शादी करनी पड़ी। हालांकि यह परंपरा आज की जेनरेशन में न के बराबर ही रह गई है। लेकिन पुरानी पीढ़ी के लोग आज भी इसी परंपरा में विश्वास रखते हैं।

दूसरी पत्नी मतलब पुत्र प्राप्ति की गारंटी

इस गांव के बुजुर्गों ने दो शादियां करने को लेकर जो तर्क दिए वे काफी हैरान कर देने वाले थे। इस गांव के बुजुर्गों का कहना है कि गांव में यह मान्यता पूरी तरह घर कर चुकी है कि, दूसरी पत्नी ही पुत्र को जन्म दे सकती है। बुजुर्गों के अनुसार दूसरी पत्नी का मतलब है पुत्र प्राप्ति की गारंटी। हालांकि दो-दो शादियां करने के बाद परिवार में एकजुटता बनाए रखने के लिए एक ही रसोई में खाना पकाया जाता है। महिलाओं को उनके पतियों द्वारा बराबर के हक दिए जाते हैं और महिलाएं खुद आपस में बेहद प्रेमपूर्वक रहती हैं। शायद यही कारण है कि दो-दो पत्नियां होने के बाद भी इस गांव से किसी प्रकार की घरेलू हिंसा जैसा कोई भी बड़ा मामला आजतक सामने नहीं आया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है