Expand

सुक्खू बोले, ब्लैकमेलिंग वीरभद्र की पुरानी आदत, हाईकमान से मांगें माफी

कहा, पार्टी जीत के लिए वीरभद्र सिंह का होना जरूरी नहीं

सुक्खू बोले, ब्लैकमेलिंग वीरभद्र की पुरानी आदत, हाईकमान से मांगें माफी

- Advertisement -

शिमला। कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष और विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू ने पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह पर जवाबी हमला बोला है। सुक्खू ने कहा कि पार्टी में अच्छा काम करने वाले हर नेता का विरोध करना वीरभद्र सिंह का स्वभाव बन गया है। पहले उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस नेता सत महाजन, फिर विद्या स्टोक्स और विप्लव ठाकुर व उसके बाद कौल सिंह ठाकुर का विरोध किया। वीरभद्र सिंह की आदत रही है कि जब भी चुनाव आते हैं तो पार्टी नेतृत्व के साथ ब्लैकमेलिंग शुरू कर देते हैं। पार्टी हाईकमान पर पूर्व सीएम की टिप्पणी अशोभनीय है।

लोकसभा चुनाव में टिकट आवंटन को लेकर वीरभद्र ने हाईकमान के लिए अमर्यादित शब्दों का इस्तेमाल किया है। उन्हें इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। बकौल सुक्खू, उन्होंने जिला व ब्लॉक कांग्रेस कमेटियां बनाईं, बूथ स्तर पर संगठन को पहुंचाया, नए और युवा चेहरों को प्रदेश कांग्रेस कमेटी में जगह दी। उन्होंने कांग्रेस के कुनबे को बढ़ाया, न कि व्यक्ति विशेष के, इसलिए वीरभद्र उनके भी धुर विरोधी बन गए। सुक्खू ने कहा कि वीरभद्र खुद को ही हिमाचल में कांग्रेस मानते हैं, जबकि समय बदल चुका है, कांग्रेस प्रदेश में बूथ स्तर तक मजबूत है। जीत के लिए वीरभद्र सिंह का ही होना जरूरी नहीं। वीरभद्र सिंह कांग्रेस नहीं, कांग्रेस पार्टी का हिस्सा हैं।

यह भी पढ़ें :- सुक्खू पर बोले वीरभद्र, हाईकमान मूर्ख होगा जो ऐसे लोगों को लड़वाएगा चुनाव

पहले ड्राइंग रूम से बनती थीं प्रदेश, जिला व ब्लॉक कांग्रेस कमेटियां

सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि प्रदेशाध्यक्ष रहते हुए छह साल दो महीने के कार्यकाल में जमीनी स्तर पर संगठन को मजबूत किया है, किसी व्यक्ति विशेष को नहीं। प्रदेश में पहले ड्राइंग रूम से प्रदेश, जिला व ब्लॉक कांग्रेस कमेटियां बनती थी, कहीं-कहीं ब्लॉक कमेटियां होती थीं, उन्होंने इस परंपरा को बदलते हुए सब कुछ पारदर्शी बनाया। कांग्रेस मुख्यालय से पार्टी हाईकमान की स्वीकृति के बाद सभी कमेटियां बनी।

सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि पार्टी के आम कार्यकर्ता व पदाधिकारियों को कबाड़ कहना अशोभनीय है। यह वीरभद्र की फितरत बन चुकी है। जबकि, आम कार्यकर्ता पार्टी की जान और रीढ़ की हड्डी होता है। पार्टी के लिए उसके योगदान की कोई कीमत नहीं चुकाई जा सकती। वीरभद्र सिंह ये बताएं, क्या गंगू राम मुसाफिर, चौधरी चंद्र कुमार, हर्ष महाजन, अजय महाजन व रवि ठाकुर भी कबाड़ हैं, जिन्हें प्रदेश कांग्रेस कमेटी में जगह दी गई है। क्या अनेक बार सांसद, विधायक, मंत्री और विधानसभा अध्यक्ष रह चुके नेताओं को संगठन में ओहदा देना गलत है। क्या वीरभद्र सिंह ब्लॉक कांग्रेस कमेटियों को भी कबाड़ मानते हैं।

वीरभद्र की नुमाइंदी में हर चुनाव हारे

सुखविंदर सुक्खू ने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार में वीरभद्र के सीएम रहते कांग्रेस उनकी नुमाइंगी में हर चुनाव हारी। जब 2014 में लोकसभा चुनाव हुए तो उन्हें अध्यक्ष बने सिर्फ एक साल हुआ था। प्रदेश में वीरभद्र के नेतृत्व में 2012 में कांग्रेस सरकार बन चुकी थी, फिर वीरभद्र लोकसभा की चारों सीटें क्यों नहीं जिता पाए। उनकी पत्नी मंडी सीट से चुनाव कैसे हार गईं। चुनाव में जनता सरकार की परफार्मेंस पर जनादेश देती है, सरकार वीरभद्र की थी, फिर 2017 में क्यों चुनाव हारे। शिमला नगर निगम के चुनावों में सरकार होते हुए हार क्यों हुई। वीरभद्र सिंह के गृह विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस नगर निगम के तीन वार्ड कैसे हारी। भोरंज विधानसभा उपचुनाव वीरभद्र सिंह क्यों नहीं जिता पाए। सुक्खू ने कहा कि संगठन तो काम करता रहा, लेकिन सरकार सत्ता के नशे में चूर रही। यही कारण है कि वीरभद्र सिंह छह बार सीएम बनने के बावजूद कभी प्रदेश में कांग्रेस सरकार रिपीट नहीं कर पाए।

विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की नहीं वीरभद्र की हुई हार

सुखविंदर सुक्खू ने कहा कि उम्र के हिसाब से वीरभद्र सिंह आदरणीय हैं, लेकिन जब राजनीतिक बात करेंगे तो जवाब भी राजनीतिक तरीके से ही मिलेगा। बीते लोकसभा और विधानसभा चुनाव में हार कांग्रेस पार्टी या संगठन की नहीं, बल्कि सीधे वीरभद्र सिंह की हुई है। क्योंकि 2014 में लोकसभा के चारों टिकट उनकी मर्जी के थे, 2017 विधानसभा चुनाव में भी साठ टिकटें वीरभद्र ने अपनी मर्जी की लीं। कांग्रेस अध्यक्ष को तो मात्र पांच टिकटे मिलीं। ऐसे में खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि हारा कौन और हार किसकी वजह से कांग्रेस पार्टी की हुई।

संगठन मजबूत होने से वीरभद्र को समस्या

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में संगठन का मजबूत होना वीरभद्र सिंह की सबसे बड़ी समस्या है। वे कभी चाहते ही नहीं थे कि प्रदेश में कांग्रेस अपने पैरों पर खड़ी हो। इसलिए हमेशा उन्होंने कांग्रेस को अपने से ऊपर प्रदेश में उठने ही नहीं दिया। कांग्रेस को खत्म कर व्यक्ति विशेष का कद बढ़ा बना दिया।

पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़ने वालों को बनाया चेयरमैन

सुखविंदर सुक्खू ने कहा है कि वीरभद्र ने पूर्व सरकार में ऐसे लोगों को चेयरमैन बनाया, जिन्होंने पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ा था। चेयरमैन बनने के बाद भी वे लोग कांग्रेस को मजबूत नहीं कर पाए। बीते विधानसभा चुनाव में उनके बूथ पर 8 से 10 वोट पड़े। सीएम बनने पर वीरभद्र सिंह का काम ही अपने कुनबे व पार्टी विरोधी नेताओं को आगे बढ़ाने का रहा है।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है