Covid-19 Update

2,27,195
मामले (हिमाचल)
2,22,513
मरीज ठीक हुए
3,831
मौत
34,587,822
मामले (भारत)
262,656,063
मामले (दुनिया)

ऑटो सेक्टर का सबसे फीका फेस्टिव सीजन, सालाना ब्रिकी दर में 5 फीसदी की गिरावट

सेमी-कंडक्टर की कमी और डीजल पेट्रोल के दाम ने गाड़ियों की डिमांड घटाई

ऑटो सेक्टर का सबसे फीका फेस्टिव सीजन, सालाना ब्रिकी दर में 5 फीसदी की गिरावट

- Advertisement -

नई दिल्ली। कोरोना की दूसरी लहर झेलने के बाद इकोनॉमी को त्योहारी सीजन में बूस्ट मिलने की उम्मीद थी। लेकिन ऑटोमोबाइल सेक्टर ने कई दशक बाद इतना बुरा दौर देखा है। चिपसेट की कमी, बढ़ते पेट्रोल डीजल के दाम और कोरोना के चलते अक्टूबर और नवंबर के शुरुआत में कुल मासिक बिक्री घट गई है। मासिक बिक्री में सालाना आधार पर 5.33 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।

अगर 2019 अक्टूबर से तुलना की जाए तो कुल खुदरा बिक्री में 26.64 प्रतिशत की गिरावट जारी है। पिछले 42 दिनों के उत्सव की अवधि के दौरान, कुल वाहन खुदरा बिक्री में साल-दर-साल 18 प्रतिशत की गिरावट आई। 3W और CV को छोड़कर, जो 53% और 10% ऊपर थे, अन्य सभी श्रेणियां 2W, PV और ट्रैक्टर 18%, 26% और 23% नीचे चली गईं।

यह भी पढ़ें:रिचार्ज कराना होगा महंगा: AIRTEL प्रीपेड प्लान 25% महंगा, जानें नए दाम

अक्टूबर 2021 में 2W घटकर 15 लाख ,79 हजार,642 हो गया, जबकि पिछले साल इसी अवधि के दौरान 19 लाख,38 हजार,066 यूनिट्स की बिक्री हुई थी। पिछले साल पेसेंजर गाड़ियों की बिक्री 4 लाख 39 हजार 564 थी जो इस अक्टूबर में घटकर 3 लाख,24 हजार,542 यूनिट रह गई। ट्रैक्टर की बिक्री भी इस बार प्रभावित हुई, पिछले सीजन में 73 हजार,925 यूनिट से यह घटकर महज 56 हजार,841 ट्रैक्टरों की बिक्री हुई।

बाजार में वाहनों की बिक्री को लेकर एक्सपर्ट विंकेश गुलाटी न कहा कि ऑटोमोबाइल बाजार ने पिछले एक दशक में सबसे खराब त्योहारी सीजन देखा है। सेमी-कंडक्टर की कमी, जो पहले से ही एक पूर्ण संकट था। उसने अपना असली रंग दिखाया है। उन्होंने कहा कि लोगों ने अपने परिवार की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों के कारण पैसे बचाना जारी रखा।

2W श्रेणी को कम बिक्री का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है, जिसमें प्रवेश स्तर की श्रेणी सबसे बड़ा स्पॉइलस्पोर्ट है। खुदरा क्षेत्र में ग्रामीण संकट, लगातार कीमतों में बढ़ोतरी, ईंधन की कीमतों में तीन अंकों की बढ़ोतरी और स्वास्थ्य संबंधी आपात स्थितियों के लिए धन बचाने वाले ग्राहकों ने मांग को कम रखा है। जिसके चलते इसका सीधा असर कार कंपनियों में काम कर रहे कर्मचारियों और खुले बाजार में वाहन सर्विसिंग सेवा प्रदान कर रहे मैकेनिक पर पड़ेगा।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है