Covid-19 Update

58,457
मामले (हिमाचल)
57,233
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,045,587
मामले (भारत)
112,852,706
मामले (दुनिया)

Budget Session : विधानसभा में गूंजा फर्जी डिग्री बांटने का मामला, Education Minister ने दिया जवाब

Budget Session : विधानसभा में गूंजा फर्जी डिग्री बांटने का मामला, Education Minister ने दिया जवाब

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश विधानसभा में गुरुवार को निजी विश्वविद्यालयों द्वारा फर्जी डिग्री बेचने (Fake degree distribution) का मामला गूंजा। आज सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने यह मामला उठाया और कहा कि यूजीसी ने इस संबंध में प्रदेश सरकार को लिखा है और राज्य के निजी शिक्षण नियामक आयोग का घेराव भी एक छात्र संगठन ने किया है। इस पर शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज (Education Minister Suresh Bhardwaj) ने कहा कि मामले की छानबीन की जा रही है और यदि किसी भी विवि द्वारा फर्जी डिग्री देने का मामला सामने आया तो उस पर कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें: फर्जी डिग्री प्रकरण : प्रदेश सरकार के खिलाफ NSUI का प्रदर्शन, ABVP ने जड़ा ताला

 

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि राज्य में फर्जी डिग्री देने का मामला उठा है और कहा जा रहा है कि राज्य के निजी विश्वविद्यालयों (Private universities) पर पांच लाख फर्जी डिग्री देने का आरोप है। उन्होंने कहा कि इससे हिमाचल की बदनामी हो रही है और यहां पर खुले निजी विवि में पढ़ रहे हिमाचली युवाओं का भविष्य दांव पर है। यह मामला दिल्ली तक जा पहुंचा है और वहां से यूजीसी ने इस मामले पर राज्य सरकार को लिखा है और पुलिस ने तो कहा है कि मामले की जांच नहीं हो सकती। ऐसे में शिक्षा मंत्री को इस पर स्पष्टीकरण देना चाहिए। अग्निहोत्री ने कहा कि यह मामला गंभीर है और हिमाचल के युवाओं से जुड़ा है, लेकिन इस पर शिक्षा मंत्री ने खुद कोई जवाब नहीं दिया। इसलिए उन्होंने इस मामले को उठाया है।

इस पर शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि नेता विपक्ष ने बिना नोटिस और बिना नियम के यह मामला उठाया है। इस मामले को लेकर नेता प्रतिपक्ष सनसनी फैलाने का प्रयास कर रहे हैं और यह ऐसा मामला नहीं है। उन्होंने कहा कि एक अनाम शिकायत UGC से कई गई थी और इस पर यूजीसी ने प्रदेश सरकार को पत्र भेजा है और सरकार ने इसे आगे कार्रवाई को निजी शिक्षण नियामक आयोग के भेजा है। इस शिकायत में 18 विश्वविद्यालयों का जिक्र है और इनमें से दो हिमाचल प्रदेश की एपीजी और मानव भारती विवि है। भारद्वाज ने कहा कि बेनामी शिकायत पर कार्रवाई नहीं की जा सकती है फिर भी यूजीसी के पत्र को प्रधान सचिव शिक्षा ने मामला निजी शिक्षण नियामक आयोग को भेजा है। इस पर आयोग ने इन विवि से रिकार्ड तलब किया है और डीजीपी को भी शिकायत भेजी है। इस शिकायत में कहा गया है कि एपीजी से 15 हजार और मानव भारती विवि से चार-पांच लाख फर्जी डिग्रियां दी गई और पुलिस ने इसका सारा रिकार्ड मांगा है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि मामले की छानबीन की जा रही है और यदि कोई भी फर्जी डिग्री पाई गई तो दोषी पर कार्रवाई की जाएगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है