Covid-19 Update

2,05,391
मामले (हिमाचल)
2,01,014
मरीज ठीक हुए
3,503
मौत
31,484,605
मामले (भारत)
196,043,557
मामले (दुनिया)
×

परिवार को मिले बीमा का One Crore, कर्ज में डूबे कारोबारी ने 90 हजार में करवा ली खुद की हत्या

परिवार को मिले बीमा का One Crore, कर्ज में डूबे कारोबारी ने 90 हजार में करवा ली खुद की हत्या

- Advertisement -

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच कर्ज में डूबे एक कारोबारी (Businessman) ने खुद की हत्या करवा ली। कारण यही था,कि कारोबारी कर्ज ना चुकता कर पाने पर परेशान रहता था,उसे लगा कि अगर उसकी हत्या हो जाती है तो उसके परिजनों को बीमा की एक करोड (One Crore) की रकम मिल जाएगी। इसलिए उसने अपनी मौत की सुपारी 90 हजार में दी। मामला दिल्ली के कड़कड़डूमा के कारोबारी से जुडा हुआ है। उसने फेसबुक के जरिए भाड़े के हत्यारों से संपर्क कर उन्हें 90 हजार रूपए भी दिए थे। रणहौला पुलिस ने जब एक नाबालिग समेत चार लोगों को पकड़ा तो हत्या के पीछे की कहानी सामने आई।

परिवार सहित आईपी एक्सटेंशन में रहता था


पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बीती10 जून को रणहौला इलाके में पेड़ से लटकी एक युवक की लाश मिली थी। युवक के हाथ.पैर बंधे थेए जिसकी वजह से हत्या का मामला लग रहा था। जांच में मालूम हुआ कि शव 37 वर्षीय गौरव बंसल का था, वह परिवार सहित आईपी एक्सटेंशन (Ip extension) में रहता था। परिवार ने नौ जून को आनंद विहार थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी, जिसमें कहा गया था कि वह अपनी दुकान पर गया लेकिन वापस घर नहीं लौटा था। पुलिस ने परिवार के लोगोंए दोस्तों और दुकान के कर्मचारियों की जानकारी खंगाली गई लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लगा। फिर मृतक के फेसबुक, व्हाट्सएप और मोबाइल फोन की जांच की तो पहले सूरज फिर सुमित, मनोज और अंत में नाबालिग को पुलिस ने (Police) धर दबोचा। पूछताछ में आरोपियों बताया कि गौरव ने अपनी हत्या करने के लिए उन्हें 90 हजार रूपए दिए थे ताकि मरने के बाद उसके बीमे (Insurance) की एक करोड की रकम परिवार को मिल सके।

एक माह से अपनी हत्या की साजिश रच रहा था

जांच में सामने आया है कि गौरव (Gurav) एक माह से अपनी हत्या की साजिश रच रहा था। उसे फेसबुक पर मुंबई का एक व्यक्ति मिला जिसने हत्या कराने के लिए नाबालिग का मोबाइल नंबर दिया। फिर नाबालिग ने सुपारी लेकर तीनों युवकों को अपने साथ शामिल कर लिया। नौ जून को गौरव खुद ही रणहौला पहुंचा, जहां पर योजना के अनुसार आरोपियों ने उसके हाथ-पैर बांधकर उसे पेड़ से लटका दिया। ऐसा इसलिए किया गया ताकि यह हत्या प्रतीत हो। गौरव की कड़कड़डूमा में किराए के मकान में किराना की थोक की दुकान है। कर्ज से वह बेहद परेशान रहता था। इसके चलते ही उसने अपनी हत्या करवा डाली।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है