Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,396,300
मामले (भारत)
194,663,924
मामले (दुनिया)
×

किसानों की समस्याओं को लेकर गंभीर नहीं MODI सरकार

किसानों की समस्याओं को लेकर गंभीर नहीं MODI सरकार

- Advertisement -

Farmers problem : शिमला। हिमाचल किसान सभा ने आरोप लगाया है कि वहां की केंद्र की मोदी सरकार को सत्ता में आए तीन वर्ष हो रहे हैं, लेकिन अभी तक यह सरकार किसानों की समस्याओं को लेकर गंभीर नहीं है। सभा ने कहा है कि केंद्र की सरकार किसानों के मुद्दे पर अभी तक उदासीन है। उसका कहना है कि पिछले करीब एक माह से दूर-दराज के इलाकों के किसान अपनी मांगों और समस्याओं को लेकर दिल्ली में डेरा डाले हैं,लेकिन केंद्र की मोदी सरकार इनकी तरफ कोई ध्यान नहीं है।

देश व प्रदेश की सरकारों के एजेंडे में गरीब व सीमांत किसान नहीं

हिमाचल किसानसभा के अध्यक्ष डॉ. कुलदीप सिंह तनवर और सचिव व पूर्व विधायक राकेश सिंघा ने कहा कि आज देश व प्रदेश की सरकारों के एजेंडे में गरीब व सीमांत किसान नहीं हैं। इसलिए इन किसानों के कर्ज माफ करना व अन्य सुविधाएं देना तो दूर, उल्टा इन्ही गरीब, दलित किसानों को जमीन से बेदखल करते हुए खाद, बीज, पानी आदि मूलभूत सुविधाओं से भी महरूम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार भी किसानों के हितों की अनदेखी कर रही है।


उन्होंने कहा कि 5 अप्रैल को हजारों किसानों ने अपने साधनों व समय की परवाह किए बगैर खराब मौसम के बावजूद राज्य सचिवालय के समक्ष प्रदर्शन किया था।  किसान नेताओं ने कहा कि सरकार ने केबिनेट की बैठक में बंदरों की समस्या के समाधान के लिए टास्क फोर्स बनाने का निर्णय तो ले लिया, लेकिन मई माह में खत्म हो रही वर्मिन की इजाजत को आगे बढ़ाने की मांग पर मौन है। ऐसे में लगता है कि सरकार को अपनी साख बचाने और आगामी चुनावों के मद्देनजर यह निर्णय तो लेना पड़ा, लेकिन आधे-अधूरे मन से लिये इस निर्णय को मात्र डेढ़ माह में कैसे अमलीजामा पहनाएगी?

देश की एकता व अखण्डता के लिए बड़ा खतरा

हिमाचल किसान सभा का मानना है कि सरकार को इस निर्णय पर पहुंचाना किसानों के संघर्षों की एक बड़ी जीत है। किसान नेता व पूर्व विधायक राकेश सिंघा ने राजस्थान के अलवर जिला के जयसिंहपुर के किसान पहलू खान की विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल के गुंडों द्वारा गौ तस्करी का झूठा इल्जाम लगाकर हत्या करने की कड़े शब्दों में निंदा की है। सिंघा ने कहा कि केन्द्र सरकार की शह पर हिन्दूवादी संगठनों की इस प्रकार की घटनाओं से देश की एकता व अखण्डता के लिए बहुत बड़ा खतरा है। किसान सभा मांग करती है कि इन संगठनों की इस प्रकार की कार्रवाई पर तुरंत रोक लगाई जाए अन्यथा इससे विभाजनकारी ताकतों का मनोबल बढ़ेगा।

PMO के बाहर निर्वस्त्र होकर सड़क पर दौड़े नाराज किसान

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है