Covid-19 Update

59,118
मामले (हिमाचल)
57,507
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,228,288
मामले (भारत)
117,215,435
मामले (दुनिया)

अमृतसर: पहले बाप फिर बेटे की मौत, उसी ट्रैक पर, उसी जगह रामलीला देखते हुए

अमृतसर: पहले बाप फिर बेटे की मौत, उसी ट्रैक पर, उसी जगह रामलीला देखते हुए

- Advertisement -

अमृतसर। यहां के जोड़ा फाटक पर डीएमयू ट्रेन की चपेट में आकर जान गंवाने वाले ‘रावण’ यानी दलबीर सिंह का एक दर्दनाक कनेक्शन सामने आया है। पता चला है कि जिस ट्रैक पर तीन लोगों की जान बचाते दलबीर की मौत हुई, उसी ट्रैक पर 10 साल पहले उसके पिता स्वर्ण सिंह भी रामलीला देखते हुए ट्रेन से कुचले गए थे।
यह बात दलबीर के बड़े भाई बलबीर सिंह ने खुद बताई। आपको बता दें कि दलबीर सिंह ने रामलीला में रावण का रोल किया था। शुक्रवार को रावण दहन देखते हुए दलबीर के साथ 61 और लोगों को डीएमयू ट्रेन ने रेलवे ट्रैक पर कुचल दिया था। 32 साल के दलबीर के भाई बलबीर ने बताया कि 10 साल पहले उनके पिता स्वर्ण सिंह भी उसी तरह रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर रामलीला देख रहे थे। इसी बीच शताब्दी ट्रेन की चपेट में आकर स्वर्ण सिंह की मौत हो गई थी। उस हादसे में ओर भी कई लोग मारे गए थे। स्वर्ण सिंह नेत्रहीन होने के कारण हादसे से बच नहीं पाए। अब 10 साल बाद उसी ट्रैक पर उसी जगह रामलीला देखते हुए बेटे की भी मौत हो गई।

बचपन से ही रामलीला का शौक था दलबीर को

बलबीर ने बताया कि दलबीर को बचपन से ही रामलीला का बेहद शौक था। वह हर साल रामलीला शुरू होने का इंतजार किया करता था। वह आठ साल की उम्र से ही रामलीला में अलग-अलग किरदार निभा रहा था। दशहरा वाले दिन जब जोड़ा फाटक के पास ट्रेन ने लोगों को कुचला तब दलबीर की जान खतरे में नहीं थी। वह बच सकता था। उसने ट्रेन देख ली थी, लेकिन दूसरों की जान बचाने के चक्‍कर में उसने अपनी जान गंवा दी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है