- Advertisement -

फिन्ना सिंह प्रोजेक्टः लाहड़ू में कामगारों ने किया चक्का जाम

बेनतीजा रही वार्ता, अनिश्चितकाल के लिए काम ठप

0

- Advertisement -

चुवाड़ी।पिछले 9 माह से वेतन न मिलने से गुस्साए कामगारों ने फिन्ना सिंह प्रोजेक्ट को जाने वाले रास्ते को बंद कर दिया है। इससे प्रोजेक्ट का काम जारी रहने पर संकट खड़ा हो गया है। हालांकि कामगारों के मुख्य मार्ग को बंद करने से जिले भर के लोगों को दिक्कत होने की आशंका जताई जा रही थी। लेकिन कामगारों द्वारा प्रोजेक्ट रोड को ही बंद किया है। इससे आम जनता को कोई दिक्कत पेश नहीं आई है।

गुरुवार को चंबा में श्रम विभाग, संबंधित सिंचाई विभाग तथा कंपनी प्रबंधन के साथ में हुई कामगारों की बैठक बेनतीजा रहने के बाद अब स्थानीय कामगारों ने अघोषित चक्का जाम शुरू कर दिया है।इससे पूर्व हड़ताली कामगारों ने फिन्ना सिंह परियोजना का काम केंद्रीय टीम के नमूने लेने की शर्त पर शुरू होने दिया था। केंद्रीय टीम को राहत देने के बावजूद अदायगी न होने पर अल्टीमेटम के बाद चक्का जाम शुरू हो गया।

9 माह से वेतन न मिलने तथा श्रम अधिकारों की अवहेलना के आरोपों के चलते स्थानीय कामगारों ने कंपनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।बकाया वेतन की अदायगी तक काम न चलने को देने को उतारू कामगारों पर इस दौरान दबाव बनाने की कोशिश के बावजूद स्थानीय मजदूर टस से मस नहीं हुए। वहीं स्थानीय युवाओं के साथ अब स्थानीय लोग भी परियोजना में राजनीतिक दखल पर खासे नाराज हैं। ड्राइंग का इंतज़ार करती लेट लतीफ योजना से सरकारी खजाने पर भी तीन गुना बोझ पड़ा है।

कांगड़ा जिले के करीब 60 गांवों की करीब 4000 हेक्टेयर जमीन को सिंचित करने वाली इस महत्वाकांक्षी योजना से स्थानीय लोग जख्म ही मिलने की बात कह रहे हैं। यह महत्वाकांक्षी योजना सरकारी खजाने पर भी बजट के तीन गुना बढ़ने से भारी पड़ रही है। इस परियोजना में अधिग्रहित जमीन के नाम भी लोग ठगे जाने की बात कह रहे हैं।वहीं दबी जुबान में ही सही कंपनी प्रबंधन भी राजनीति के चलते स्थानीय लोगों की जगह दूसरे हल्के के लोगों को रखने के दबाव को मान रहा है। उधर स्थानीय जनता इस बात से काफी खफा भी है।

- Advertisement -

Leave A Reply