Covid-19 Update

58,800
मामले (हिमाचल)
57,367
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,137,922
मामले (भारत)
115,172,098
मामले (दुनिया)

सावधान: यहां Selfie लेना मना है

सावधान:  यहां Selfie लेना मना है

- Advertisement -

प्रदेश में पहली बार लगेंगे सेल्फी प्रतिबंधित क्षेत्र के साइन बोर्ड

मंडी। प्रदेश में पहली बार ऐसे साइन बोर्ड लगने जा रहे हैं, जिसमें लिखा होगा कि यहां सेल्फी लेना प्रतिबंधित है। सेल्फी के कारण होने वाले हादसों को ध्यान में रखते हुए मंडी जिला पुलिस ने यह निर्णय लिया है। ब्यास नदी के किनारे एनएच 21 पर यह साइन बोर्ड लगाने का निर्णय लिया गया है। सेल्फी के शौकीन ब्यास नदी की खूबसूरती को देखकर अपनी जान जोखिम में डाल देते हैं। यही कारण है कि सेल्फी के चक्कर में ब्यास नदी में बीते वर्षों के दौरान कई हादसे हो चुके हैं। आए दिन हो रहे हादसों को रोकने के लिए अब मंडी जिला पुलिस ने सेल्फी प्रतिबंधित इलाकों को चयनित कर दिया है। नेशनल हाईवे 21 पर मंडी से औट तक ऐसे 20 स्थान चिन्हित किए गए हैं, जहां पर सेल्फी लेना पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। यह प्रदेश में पहली बार होगा जब किसी स्थान को सेल्फी लेने के लिए प्रतिबंधित घोषित किया जाएगा।

पुलिस और 108 एम्बुलेंस सेवा मिलकर लगाएंगी बोर्ड

डीएसपी हैडक्वार्टर हितेश लखनपाल ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि मंडी जिला पुलिस 108 एम्बुलेंस सेवा के सहयोग से सेल्फी प्रतिबंधित क्षेत्रों पर साइन बोर्ड लगाने जा रही है। उन्होंने बताया कि साइन बोर्ड के माध्यम से लोगों यह संदेश देने का प्रयास किया जाएगा कि यहां पर सेल्फी लेना जानलेवा हो सकता है। वहीं कुछ ऐसे स्थानों को भी प्रतिबंधित करने की योजना है जहां पर पहाड़ी से पत्थर आदि गिरने का खतरा रहता है।

सलापड़ में होते हैं सबसे अधिक हादसे

मंडी जिला की सीमा सलापड़ से शुरू हो जाती है और जहां पर सबसे अधिक हादसे होते हैं, वह इलाका मंडी से औट के बीच पड़ता है। मंडी से औट तक एनएच 21 के किनारे ब्यास नदी बहती है और बाहर से आने वाले सैलानी इसकी खूबसूरती के कारण इसके इतना नजदीक चले जाते हैं कि अपनी जान को जोखिम में डाल देते हैं। 8 जून 2014 को थलौट के पास हैदराबाद के जो 25 छात्र ब्यास नदी में बहे थे, वह भी सेल्फियां और फोटो लेने के लिए ही नदी के बीच तक चले गए थे। दिनों दिन बढ़ रहे हादसों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि लोगों में सेल्फी को लेकर कितना क्रेज है। लेकिन लोग हादसों से भी सबक न लेकर सेल्फी के चक्कर में अपनी जान जोखिम में डाल देते हैं। अब ऐसे में देखना होगा कि सेल्फी प्रतिबंधित क्षेत्रों के प्रति सेल्फी के चाहवानों का क्या रुख रहता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है