Covid-19 Update

2, 85, 014
मामले (हिमाचल)
2, 80, 820
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,140,068
मामले (भारत)
528,504,980
मामले (दुनिया)

किसी जन्नत से कम नहीं ये फूलों की घाटियां, एक बार जरूर जाएं घूमने

रंग-बिरंगे फूलों से सजी वैली में बहती खुशबू सबको अपना दिवाना बना देती हैं

किसी जन्नत से कम नहीं ये फूलों की घाटियां, एक बार जरूर जाएं घूमने

- Advertisement -

नई दिल्ली। जैसे कश्मीर (Kashmir) को स्वर्ग कहा जाता है, वैसे ही भारत की कुछ ऐसी जगहें हैं जो किसी जन्नत से कम भी नहीं हैं। हर तरफ फूल ही फूल (Flowers) और इनकी खुशबू हर किसी को अपना दिवाना बना देती हैं। कभी मौका मिले तो इन जगहों पर आप खुद या अपने पार्टनर के साथ जरूर जाएं।

मुन्नार वैली

केरल (Kerala) में मौजूद मुन्नार वैली नीलकुरुंजी फूल के लिए काफी प्रसिद्ध है जो हर 12 साल में एक बार खिलता है। ये जगह केरल के इडुक्की जिला में स्थित है। बसंत के मौसम ये घाटी लैवेंडर के खूबसूरत फूल से ढक जाती है। यहां जाने के लिए अक्टूबर से अगस्त के बीच का समय सबसे अच्छा होता है।

यह भी पढ़ें-  ये हैं दुनिया की सबसे ठंडी जगहें, यहां पर जम जाता है सब कुछ

कास प्लैट्यू

कास प्लैट्यू महाराष्ट्र (Maharashtra) के सतारा जिला की उन जगहों में से एक हैए जिनकी तुलना फॉरेन डेस्टिनेशन्स से की जाती है। इस घाटी का नाम कासा के फूल के कारण पड़ा है, जो कि यहां पाए जाने वाली सबसे सामान्य प्रजाति है। यूनेसेको (UNESCO) की वर्ल्ड हेरीटेज साइट में लिस्टेड इस जगह पर 850 से ज्यादा फूलों की प्रजातियां हैं। यहां फूलों की कई ऐसी किस्में भी हैंए जिनके खिलने और मुरझाने का सिलसिला दिनभर चलता है। यानी सुबह से शाम तक यहां एक ही जगह के कई रूप दिखाई देंगे। अगस्त के आखिर से सितंबर के बीच यहां जाने का सबसे सही समय है।

वैली ऑफ फ्लावर

उत्तराखंड (Uttarakhand) की वैली ऑफ फ्लावर देखने के लिए आपको गोबिंदघाट गांव से तकरीबन 17 किलोमीटर की ट्रेकिंग करनी होगी। ये घाटी नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व का हिस्सा है। इस घाटी में आपको हिमालयन मैपल, दि ब्लू हिमालयन पॉपी, ब्रह्मकमल, मैरीगोल्ड, रोडोडेंड्रोन, डेजी और कोबरा लिली की ढेरों किस्में देखने को मिलेंगी। जून से सितंबर के बीच यहां जाने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है।

यह भी पढ़ें- बर्फ से ढके ये हिल स्टेशन स्वर्ग से कम नहीं, इनकी खूबसूरती देख आप भी कहेंगे वाह!

जुकोऊ वैली

नागालैंड-मणिपुर बॉर्डर (Nagaland-Manipur Border) के पास स्थित जुकोऊ वैली कमर्शियलाइजेशन से दूर बहुत कम एक्सप्लोर की गई एक खूबसूरत डेस्टिनेशन है। लिली की एक दुर्लभ जुकोऊ प्रजाति सिर्फ यहीं पाई जाती है। ये जगह एकोनिटम, यूफोर्बियास और रोडोडेंड्रोन की किस्मों के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है। यहां जाने का सबसे अच्छा मौसम जून से सितंबर के बीच माना जाता है।

युमथांग वैली

हिमालय की पर्वतमालाओं और फूलों की खूबसूरत किस्मों से ढकी युमथांग वैली (Yumthang Valley) भी प्रकृति का अद्भुत नमूना है। नॉर्थ सिक्किम स्थित युमथांग वैली में शिंगबा रोडोडेंड्रोन सेंक्चुरी भी शामिल हैए जहां आपको इस फूल की लगभग 24 किस्में देखने को मिलेंगी। इसके अलावा आप प्रिमरोसेज़, कोबरा लिली, आइरिस, पॉपिज़, लाउजवर्ट्स और कई तरह के खुशबूदार फूलों की किस्में भी देखेंगे।

ट्यूलिप गार्डन

कश्मीर (Kashmir ) ना सिर्फ बर्फ से ढकी चोटियों की लिए मशहूर है, बल्कि यहां मौजूद ट्यूलिप गार्डन भी पर्यटकों के बीच आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। यह एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन है। हालांकि यहां आपको हायसिंथ, नार्सिसस, डैफोडिल, मस्कारिया और आइरिस के फूलों की भी किस्म देखने को मिलेंगीण। निशात बाग और चश्मा शाही मुगल गार्डन से घिरी इस जगह से आप डल झील (Dal Lake ) का खूबसूरत नजारा भी देख पाएंगे। ये जगह श्रीनगर में है और यहां आप मार्च से अप्रैल के बीच किसी भी वक्त जा सकते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है