Covid-19 Update

2,00,282
मामले (हिमाचल)
1,93,850
मरीज ठीक हुए
3,423
मौत
29,853,870
मामले (भारत)
178,745,302
मामले (दुनिया)
×

शाम की पूजा में जरूर करें इन नियमों का पालन

शाम की पूजा में जरूर करें इन नियमों का पालन

- Advertisement -

भगवान को प्रसन्न करने के लिए पाठ-पूजा अवश्य करना चाहिएं। आम तौर पर घरों में दो बार सुबह और शाम को पूजा जरूर होती है । हिंदू धर्म में पूजा-पाठ को लेकर समय तय किए गए हैं। अगर किसी कारणवश आप सुबह पूजा नहीं कर पाएं हैं तो शाम को पूजा कर सकते हैं। हर पूजा का अपना एक अलग ही महत्व होता है।

यदि आप सभी नियमों का पालनकर और विधि पूर्वक पूजा करेंगे तो देवी देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होगा और जल्द ही आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी। पूजा के नियमों के साथ हमें समय का भी ध्यान जरूर रखना चाहिए। सुबह की पूजा के समान ही शाम की पूजा की भी अहमियत है। लेकिन दोनों पहरों की पूजा के कुछ नियम अलग हैं जिन्हें नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए। जानते हैं कुछ नियम, जिन को शाम के पूजन में ध्यान में रखना चाहिए।


पूजा के दौरान शंख बजाना बहुत ही शुभ माना जाता है लेकिन अगर आप पूजा दिन ढलने के पश्चात या रात होने पर कर रहे हैं तो शंख और घंटी बिल्कुल ना बजाएं क्योंकि सूर्यास्त के बाद सभी देवी-देवता सोने चले जाते हैं।

प्रतिदिन सुबह सूर्यदेव को जल अर्पित करना शुभ माना जाता है। इससे सूर्यदेव का आशीर्वाद तो प्राप्त होता ही है, साथ ही, अगर हमारी कुंडली में कोई ग्रह दोष है तो वो भी कट जाता है। लेकिन शाम को ऐसा नहीं करना चाहिए।

अगर आप अपनी शाम की पूजा में भी तुलसी के पत्तों का प्रयोग करना चाहते हैं तो पहले से ही कुछ पत्ते तोड़ कर रख लें क्योंकि सूर्यास्त के बाद तुलसी के पत्ते तोड़ना अशुभ होता है। इससे माता लक्ष्मी नाराज़ हो जाती हैं और आपके घर में हमेशा दरिद्रता का वास होता है।

शाम की पूजा के बाद पूजा स्थल को परदे से ढकना ना भूलें। कहते हैं मनुष्य की तरह भगवान को भी सोते समय किसी तरह की बाधा पसंद नहीं होती। एक बार आपने पूजा के स्थल को परदे से ढक दिया या फिर पूजा घर का दरवाज़ा बंद कर दिया तो फिर आप उसे सुबह ही खोलें।

भोर फटते ही सूर्य देवता अपना प्रकाश चारों ओर बिना किसी भेद-भाव के फैलाते हैं। दिन के समय इनकी पूजा करें रात को नहीं।

सूर्यास्त के बाद भूल कर भी फूल ना तोडें। ऐसा करना वर्जित माना गया है।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है