Covid-19 Update

57,189
मामले (हिमाचल)
55,796
मरीज ठीक हुए
960
मौत
10,655,435
मामले (भारत)
99,333,754
मामले (दुनिया)

Kangra जिला में खाद्य वस्तुओं के व्यापारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं लाइसेंस

Kangra जिला में खाद्य वस्तुओं के व्यापारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं लाइसेंस

- Advertisement -

धर्मशाला। खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण द्वारा व्यापारियों को पंजीकरण करवाने तथा लाइसेंस (License) प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान की गई है। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. गुरदर्शन गुप्ता की अध्यक्षता में आज डीआरडीए (DRDA) के सभागार में खाद्य सुरक्षा के लिए जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। बैठक में खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2006 के बारे में विचार-विमर्श किया गया। गुप्ता ने बताया कि शुद्ध खाद्य पदार्थ सभी को मिलें, इसे सुनिश्चित किया जाना चाहिए। प्रदूषित खाद्य पदार्थों से सभी आयु वर्ग के लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। विशेषकर बच्चों के स्वास्थ्य पर प्रदूषित खाद्य पदार्थों का ज्यादा असर देखने का मिलता है। उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण द्वारा खाद्य पदार्थों के वैज्ञानिक मानक निर्धारित किए गए हैं, जिनके अनुसार ही लोगों को खाद्य पदार्थ प्राप्त होने चाहिए।

उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत सभी खाद्य विक्रेता, राशन डिपो, मिड-डे मील, शराब विक्रेता, आंगनबाड़ी केंद्र लाइसेंस बनाएं या रजिस्ट्रेशन करवाएं। खाद्य फोर्टिफिकेशन के बारे में आम जनता का जागरूक किया जाए और सभी लोग दूध, तेल, नमक, चावल आटा आदि चीजें फोर्टिफिकेशन वाला ही उपयोग करें। खाद्य सुरक्षा प्रमाणन और प्रशिक्षण प्रोग्राम के अंतर्गत खाद्य विक्रेता एवं उपभोक्ताओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, किसी भी खरीद में चीनी कंपनियों की एंट्री पर Ban

उन्होंने कहा कि जो भी व्यक्ति व्यवसायिक या गैर-व्यवसायिक खाद्य पदार्थों के तैयार करने का कार्य करने में शामिल है, उसे पंजीकरण करवाना या लाइसेंस बनवाना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि व्यवसायिक तौर पर खाद्य वस्तुओं का व्यापार करने वाले व्यक्ति जिनका वार्षिक व्यवसाय 12 लाख रुपये से कम है, उन्हें पंजीकरण करवाना अनिवार्य है जबकि 12 लाख से अधिक व्यवसाय वाले खाद्य वस्तुओं के व्यपारियों को लाइसेंस लेना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि खाद्य वस्तुओं के व्यापार में लगे सभी व्यक्तियों का वार्षिक चिकित्सा जांच (Medical Check Up) करवाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि पानी और दवाओं से संबंधित व्यापारियों के लिए चिकित्सा जांच आवश्यक नहीं है। उन्होंने कहा कि खाद्य वस्तुओं के सभी व्यापारियों को स्वास्थ्य मानक पूरा करना आवश्यक है तभी उन्हें विभाग द्वारा खाद्य वस्तुओं के व्यापार के लिए पंजीकरण या लाइसेंस प्रदान किया जाता है।
उन्होंने कहा कि अगर किसी भी उपभोक्ता को खाद्य व्यापारी द्वारा पूरे किए जा रहे स्वास्थ्य मानकों या वस्तु की गुणवत्ता बारे शिकायत हो तो वे संबंधित खाद्य सुरक्षा कार्यालय से संपर्क कर सकता है। सहायक आयुक्त खाद्य सुरक्षा मंजीत ठाकुर ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया व विभाग द्वारा खाद्य सुरक्षा तय बनाने को लेकर उठाए कदमों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. विक्रम कटोच, जिला कल्याण अधिकारी रंजीत कुमार सहित समिति के सभी सदस्यों ने भाग लिया।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है