Covid-19 Update

2,06,161
मामले (हिमाचल)
2,01,388
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,695,958
मामले (भारत)
199,022,838
मामले (दुनिया)
×

India-China के विदेश मंत्रियों ने फोन पर की बात; एस जयशंकर ने चीन को दिया कड़ा संदेश

India-China के विदेश मंत्रियों ने फोन पर की बात; एस जयशंकर ने चीन को दिया कड़ा संदेश

- Advertisement -

नई दिल्ली। भारत-चीन सीमा विवाद (India-China border dispute) के मध्य भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प पर भारत (India) ने चीन (China) को कड़ा संदेश दिया है। चीन के विदेश मंत्री वांग यी से फोन पर हुई बातचीत के दौरान भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर (S. Jaishankar) ने बुधवार को कहा कि गलवान में जो कुछ भी हुआ वो चीन की प्लानिंग थी। चीन ने जमीनी हालात को बदलने की साजिश की। उसकी मंशा तथ्यों को बदलने की है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने स्पष्ट कर दिया कि भारत इसे स्थानीय स्तर पर अचानक पैदा हुई परिस्थिति नहीं मानता है, बल्कि इसके पीछे चीन की सोची-समझी साजिश साफ झलक रही है। इसलिए, भविष्य की घटनाओं की जिम्मेदारी उसी पर होगी। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि इस घटना का द्विपक्षीय संबंधों पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा।

इस अनचाही गतिविधि का द्विपक्षीय संबंध पर गंभीर असर पड़ेगा

इस बातचीत के संबंध में भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि विवाद निपटने के रास्ते पर था कि चीनी सैनिकों ने गलवान घाटी में हमारे हिस्से की एलएसी पर ढांचा खड़ा करना चाहा। यह विवाद की जड़ बना और चीन ने पूरी तरह सोची-समझी और योजना बनाकर कार्रवाई की जिससे हिंसा हुई और दोनों ओर के सैनिक शहीद हुए।


यह भी पढ़ें: ‘हिंसक टकराव’ पर बोला चीनी विदेश मंत्रालय- हम और ज्यादा झड़प नहीं चाहते

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने समकक्ष से साफ कहा, ‘इससे स्पष्ट होता है कि चीन यथास्थिति में परिवर्तन नहीं करने को लेकर हमारे बीच बनी सभी सहमतियों का उल्लंघन कर जमीनी हकीकत बदलने का इरादा रखता है।’ भारतीय विदेश मंत्री ने स्पष्ट कर दिया कि इस अनचाही गतिविधि का द्विपक्षीय संबंध पर गंभीर असर पड़ेगा।

सैन्य स्तर की बातचीत में बनी सहमति के मुताबिक कदम उठाएंगे

उन्होंने कहा कि वक्त का तकाजा है कि चीन अपनी कार्रवाइयों पर फिर से विचार करे और सुधार की दिशा में कदम उठाए। इस बीतचीत के दौरान विदेश मंत्री ने गलवान घाटी में 15 जून को हुई खूनी झड़प के खिलाफ चीन के सामने बेहद कड़े शब्दों में प्रतिरोध दर्ज कराया है। विदेश मंत्री ने वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ मीटिंग में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर डी-एस्केलेशन के अजेंडे तय हुए थे जिन्हें लागू करने के लिए पिछले हफ्ते ग्राउंड कमांडरों के बीच लगातार बातचीत हुई। बयान में कहा गया है कि दोनों पक्षों ने इस बात पर सहमति जताई कि गलवान घाटी झड़प से उत्पन्न हालात से ठीक से निपटा जाएगा। दोनों देश सैन्य स्तर की बातचीत में बनी सहमति के मुताबिक कदम उठाएंगे और मौके पर स्थिति को जितनी जल्दी संभव हो शांत करेंगे। दोनों पक्षों ने दोनों देशों के बीच हुए समझौतों के मुताबिक सीमा पर शांति बनाए रखने पर सहमति जताई।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है