×

वीरभद्र सिंह बोले -मैं सीएम होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला

नहीं गए सदन में बाहर कांग्रेसी विधायकों के साथ धरने पर बैठे

वीरभद्र सिंह बोले -मैं सीएम होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला

- Advertisement -

शिमला। यदि मैं सीएम ( CM) होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला। जयराम सरकार ( Jairam Govt)चाहे तो 5 मिनट में मसले को हल कर सकते है लेकिन सरकार की इच्छाशक्ति ही नहीं है। यह बात पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ( Former CM Virbhadra Singh) ने विधानसभा ( Vidhansabha) में चल रहे गतिरोध को लेकर मीडिया से बातचीत के दौरान कही। उन्होंने कहा कि हिमाचल के बजट इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है कि विपक्ष के बिना बजट पेश हुआ है। 6 मार्च को सीएम जय राम ठाकुर बजट पेश करेंगे। इतना लंबा विरोध नहीं करना चाहिए लेकिन सत्ता पक्ष यदि मामले को सुलझाना नहीं चाहता है तो विपक्ष को मज़बूर होकर विरोध करना पड़ेगा। आज विधानसभा के बजट सत्र के पांचवे दिन पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह पहुंचे तो सही लेकिन सदन में न जा कर बाहर निलंबित कांग्रेस के विधायकों ( Congress MLAs) के साथ धरने पर बैठ गए।


यह भी पढ़ें: सीएम जयराम ठाकुर ने लगवाई Covid Vaccine, विपक्ष के धरने पर कह दी ये बात

सीएम जब 11 बजे सदन के बाहर पहुंचे तो नेता प्रतिपक्ष उन्हें धरना स्थल तक ले गए। वीरभद्र सिंह के लिए वहां पर पर कुर्सी लगाई गई। सत्र के पांचवे दिन पांच निलंबित सदस्यों सहित समूचा विपक्ष सदन में नहीं गया और सदन के बाहर मौन बैठा रहा। अभी तक सदन से गैरहाजिर रहने वाले पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह भी कांग्रेस पार्टी के धरने में पहुंचे। करीब एक घंटे तक विपक्ष के साथ मौन बैठने के बाद गेट के बाहर से ही वीरभद्र सिंह वापिस अपने निवास स्थान हॉलीलॉज लौट गए। इससे पहले गत दिवस मुकेश अग्निहोत्री व आशा कुमारी वीरभद्र सिंह से मिलने हॉलीलाज गए थे। उधर पूर्व सीएम शांता कुमार ने भी सदन में चल रहे गतिरोध के बारे में पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह से बात की है। सीएम जयराम ने भी कुछ देर पहले कहा था कि अगर वीरभद्र सिंह सदन में आते हैं तो वे उनसे बात करेंगे। उन का कहना था कि सभी चाहते हैं कि सदन में सत्ता पक्ष व विपक्ष मौजूद हों और सदन की कार्यवाही सुचारू चले। जाहिर है इससे पहले बुधवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर भी बुधवार निलंबित नेता प्रतिपक्ष सहित पांच विधायकों के समर्थन में विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे थे। उन्होंने निलंबन को सरकार की एकतरफा कार्रवाई बताते हुए इसकी आलोचना की थी। उन्होंने सरकार से निलंबन को तुरंत रद करने की मांग की अन्यथा कांग्रेस इसके विरोध में सड़क पर उतरेगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है