Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,123,619
मामले (भारत)
114,991,089
मामले (दुनिया)

देश का पहला Satellite “आर्यभट्ट” बनाने वाले Scientist UR Rao नहीं रहे

देश का पहला Satellite “आर्यभट्ट” बनाने वाले Scientist UR Rao नहीं रहे

- Advertisement -

नई दिल्ली। इसरो के पूर्व प्रमुख और अंतरराष्ट्रीय स्तर के अंतरिक्ष वैज्ञानिक प्रो. यूआर राव का निधन हो गया है। राव को इस साल की शुरुआत में दिल की बीमारी की वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने देर रात 2.30 बजे अंतिम सांस ली। राव 85 साल के थे और भारत की सेटेलाइट क्रांति के जनक थे। उनकी अगुवाई में ही भारत का पहला उपग्रह ‘आर्यभट्ट’ अंतरिक्ष में भेजा गया था।

पीएम नरेन्द्र मोदी ने जताया शोक

पीएम नरेन्द्र मोदी ने भी उनके देहावसान पर शोक जताया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि भारत के अंतरिक्ष प्रोग्राम में राव का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।राव को पूरे विश्व में उनके काम के लिए जाना जाता है। वह इसरो के कई सफल प्रक्षेपणों का हिस्सा रहे हैं। आर्यभट्ट से मंगल ग्रह के मिशन तक राव ने इसरो की कई परियोजनाओं पर काम किया है। बता दें कि यूआर राव के नेतृत्व में ही 1975 में पहले भारतीय उपग्रह ‘आर्यभट्ट’ से लेकर 20 से अधिक उपग्रहों को डिजाइन किया गया और सफलता पूर्वक प्रक्षेपित किया गया। राव ने भारत में प्रक्षेपास्त्र प्रौद्योगिकी का विकास भी तेज किया, जिस वजह से 1992 में एएसएलवी का सफल प्रक्षेपण किया गया।

राव को उनके उत्कृष्ठ काम के लिए इस साल जनवरी में ‘पद्म विभूषण’ प्रदान किया गया था। इसके अलावा अंतरिक्ष विज्ञान में अहम योगदान के लिए भारत सरकार ने यूआर राव को 1976 में ‘पद्म भूषण’ से भी सम्मानित किया था। उडुपी के एक छोटे से गांव आदमपुर में जन्मे प्रोफेसर राव भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम से सतीश शावन और विक्रम साराभाई के समय से जुड़े थे। 1984 से 1994 के बीच उन्होंने दस साल के लिए इसरो के अध्यक्ष के रूप में भी अपनी सेवाएं दीं। स्पेस और रिसर्च का उनका ज्ञान बेजोड़ था। अपनी मृत्यु से पहले तक वह तिरुवनंतपुरम में भारतीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (IIST) के कुलपति के पद पर तैनात थे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है