Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

अपनी ही पार्टी से बाहर किए गए Kashmir के मसले पर Pak का समर्थन करने वाले पूर्व मलेशियाई PM

अपनी ही पार्टी से बाहर किए गए Kashmir के मसले पर Pak का समर्थन करने वाले पूर्व मलेशियाई PM

- Advertisement -

नई दिल्ली। कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान (Pakistan) का समर्थन करने वाले मलेशिया के पूर्व पीएम महातिर मोहम्मद (Mahatir Mohammad) को उनकी ही पार्टी ‘बरसातू’ से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। महातिर को पार्टी के संविधान का उल्लंघन करने का दोषी पाए जाने के बाद बर्खास्त (Dismissed) कर दिया गया। महातिर इस पार्टी के संस्थापक सदस्यों में शामिल हैं। गुरुवार को महातिर को लिखे पत्र में प्रीबूमि बेरसतु मलेशिया (पीपीबीएम) के कार्यकारी सचिव मुहम्मद सुहैमी याहया ने कहा कि पूर्व पीएम की सदस्‍यता, पार्टी के संविधान का उल्लंघन करने के कारण रद्द की जा रही है।

उनके बेटे और अन्य कई पूर्व मंत्रियों को भी बर्खास्त किया गया

इस पत्र में बताया गया कि 18 मई को संसद के एक दिन के सत्र में वह विपक्ष के साथ बैठे थे। वहीं महातिर के अलावा पार्टी ने उनके समर्थकों को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया है। रिपोर्ट्स के अनुसार उनके बेटे मुखरिज महातिर, पू‌र्व खेल मंत्री सैयद सद्दीक सैयद अब्दुल रहमान, पूर्व शिक्षा मंत्री मस्जली मलिक और पूर्व उप वित्त मंत्री अमीरुद्दीन हमजा को भी पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया है। गौरतलब है कि मलेशिया में मार्च महीने में हुए बड़े राजनीतिक फेरबदल के बाद महातिर की जगह मोहिउद्दीन यासीन नए पीएम बने थे।


यब ही पढ़ें: वित्त वर्ष 2019-20 के GDP Growth Rate के आंकड़े जारी

माताहिर ने कश्मीर मसले पर यूएन में जेड थे भारत पर आरोप

महातिर ने पिछले साल संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर (Kashmir) को मसले पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान के सुर में सुर मिलाए थे, जिसके बाद उन्हें कड़ी आलोचना झेलनी पड़ी थी। महातिर मोहम्मद ने पीएम रहते हुए संयुक्त राष्ट्र महासभा (UN General Assembly) में अपने भाषण में भारत (India) पर कश्मीर पर बलपूर्वक कब्जा करने का आरोप लगाया था। इसके बाद भारत और मलेशिया के संबंधों में खटास आ गई थी। हालांकि, मलेशिया में सत्ता बदलने के साथ ही भारत के साथ संबंधों में भी सुधार हुआ है। वहीं जब से महातिर प्रधानमंत्री बने थे वह पाकिस्तान के पक्ष में लगातार बोलते रहते थे। जिसके बदले में मलेशिया को भारत की तरफ से आयात किए जाने वाले खाद्य तेलों पर प्रतिबंध लगा दिए जाने जैसे झटके झेलने को मिले थे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है