Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,526,622
मामले (भारत)
196,707,763
मामले (दुनिया)
×

सुशांत की दो टूक- विस्थापितों को पौंग में बिजाई करने से कोई नहीं रोक सकता

सुशांत की दो टूक- विस्थापितों को पौंग में बिजाई करने से कोई नहीं रोक सकता

- Advertisement -

रविंद्र चौधरी/जवाली। पौंग बांध विस्थापितों को जब तक उनका हक नहीं मिलता है, तब तक विस्थापितों को पौंग किनारे खाली जमीन पर बिजाई करने से कोई भी नहीं रोक सकता है। यह बात पूर्व सांसद डॉ. राजन सुशांत ने पपाहन में पौंग विस्थापितों के साथ आयोजित बैठक में कही। डॉ. राजन सुशांत ने कहा कि पौंग डैम आस्तिव के हक की लड़ाई लड़ते रहे थे, लड़ते रहे हैं और आगे भी लड़ते ही रहेंगे। उन्होंने कहा कि वह जनता के हक के लिए लड़ते रहेंगे। उन्होंने कहा कि पौंग डैम बनने के समय इकरारनामा हुआ था कि विस्थापितों को श्रीगंगानगर में मूलभूत सुविधाओं से लैस जमीन दी जाएगी, लेकिन आजतक विस्थापितों को श्रीगंगानगर में जमीन नहीं मिल पाई है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel… 


उन्होंने कहा कि पौंग बांध किनारे खाली जमीन पर विस्थापित मजबूरीवश खेती कर अपने परिवार का पालन-पोषण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विस्थापितों ने विस्थापन के उपरांत पीएम इंदिरा गांधी के निर्देशानुसार जहां खाली जमीन देखी, वहीं मकान बना लिए लेकिन अब उसको वन विभाग की जमीन का हवाला देकर उखाड़ा जा रहा है। उन्होंने कहा कि विस्थापितों का पौंग किनारे जमीन पर खेती करना व वन विभाग की जमीन पर बसना रास नहीं आ रहा है। उन्होंने कहा कि विस्थापितों ने जमीन बीबीएमबी को दी थी और यह वाइल्ड लाइफ कहां से आ गया। उन्होंने कहा कि जब हमने बीबीएमबी के साथ इकरारनामा ही तोड़ दिया है तो फिर वाइल्ड लाइफ जबरदस्ती मालिक बनना छोड़ दे। उन्होंने कहा कि गरीब लोगों को नहीं मरने दिया जाएगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस Link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है