Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

ईवीएम से छेड़छाड़: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बोले- संदेह से परे होना चाहिए जनादेश

ईवीएम से छेड़छाड़: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बोले- संदेह से परे होना चाहिए जनादेश

- Advertisement -

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) सहित अधिकांश विपक्षी नेताओं ने एक्जिट पोल (Exit Poll) को सिरे से खारिज कर दिया। उनमें से कई ने वोटिंग मशीनों में हेरफेर का भी सुझाव दिया। ममता बनर्जी ने कहा था कि इस तरह के एग्जिट पोल ‘हजारों ईवीएमएस में हेरफेर या बदलने’ के लिए थे। चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) ने भी कहा था कि चुनाव आयोग को पारदर्शिता और जवाबदेही स्थापित करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: लोकसभा लाइव : केजरीवाल और अखिलेश के बीच हुआ चुनावी मंथन


इसी कड़ी में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) ने भी ईवीएम से छेड़छाड़ के आरोपों पर चिंता व्यक्त की। उनके द्वारा ईवीएम से गलत इस्लेमाल को मतदाताओं के फैसले से छेड़छाड़ के रूप में वर्णित किया। प्रणब मुखर्जी ने एक बयान में कहा, ‘ईवीएम की सुरक्षा चुनाव आयोग की जिम्मेदारी है।’ ट्विटर पर प्रणब मुख़र्जी ने एक फोटो अपलोड की जिसमें उन्होंने इस चिंता का ज़िक्र किया।

वीडियो क्लिप की एक श्रृंखला सामने आई है, जो इशारा करती है कि उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में निजी कारों में ईवीएम (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) के साथ छेड़छाड़ या उनका परिवहन किया जा रहा है। प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) ने भी ट्वीट कर के कहा कि तथाकथित रिजर्व ईवीएम को लेकर जो असामान्य तरीके अपनाए जा रहे हैं वो पक्षपातपूर्ण है और उसकी सुरक्षा को लेकर समझौता किया जा रहा है। उनका कहना है कि जिस ईवीएम का चुनाव के लिए इस्तेमाल हो रहा है उसके बदले जाने का डर है।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है