Covid-19 Update

2,16,906
मामले (हिमाचल)
2,11,694
मरीज ठीक हुए
3,634
मौत
33,478,419
मामले (भारत)
229,382,253
मामले (दुनिया)

राष्ट्रवाद और भारत माता की जय के नारे का हो रहा गलत इस्तेमाल- पूर्व PM मनमोहन सिंह

राष्ट्रवाद और भारत माता की जय के नारे का हो रहा गलत इस्तेमाल- पूर्व PM मनमोहन सिंह

- Advertisement -

नई दिल्ली। देश के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने देश के पहले पीएम पं. जवाहरलाल नेहरू (Jawahar Lal Nehru) पर लिखी गई किताब की लॉन्चिंग के मौके पर कहा कि देश में राष्ट्रवाद (Nationalism) और ‘भारत माता की जय’ (Bharat Mata Ki Jai) के नारे का दुरुपयोग हो रहा है। इस नारे का इस्तेमाल कर भारत के बारे में भावनात्मक और उग्रवाद का विचार पैदा किया जा रहा है। ऐसा करने से देश के नागरिक अलग-अलग हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि आज कहा कि देश के प्रथम पीएम पं. जवाहर लाल नेहरू को जिस प्रकार से गलत ढंग से पेश किया जा रहा है, उसे एक दिन इतिहास नकार देगा और सभी तथ्यों को सही परिपेक्ष्य में देखा जाएगा।

पूर्व पीएम ने आगे कहा कि यह दुभार्ग्यपूर्ण है कि लोगों का एक समूह जिसे या तो इतिहास पढने का धैर्य नहीं है अथवा वे पूवार्ग्रह से ग्रसित होने की वजह से पंडित नेहरु को गलत परिपेक्ष्य में दर्शाने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन इतिहास में गलत और फर्जी चीजों को नकारने तथा उन्हें सही परिपेक्ष्य में रखने की क्षमता है। पुस्तक विमोचन समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि एक दिन पं. नेहरू को लेकर प्रचारित सभी चीजों को सही परिपेक्ष्य में देखा जाएगा। मनमोहन सिंह ने आगे कहा कि पं. नेहरु ने अस्थिरता के दौर में देश का नेतृत्व किया और उनके नेतृत्व में ही देश ने सामाजिक और राजनीतिक मतभिन्नता को अपना कर लोकतंत्र का रास्ता अपनाया। अपने युग के महान दृष्टा पंडित नेहरु को भारतीय धरोहर पर गर्व था और उसी विरासत से सूत्र लेकर उन्होंने आधुनिक भारत की आधारशिला रखी।

यह भी पढ़ें: बेटी का हत्यारा निकला रक्षा मंत्री की सुरक्षा में तैनात Commando,ऐसे हुआ खुलासा

उन्होंने कहा कि दुनिया में जीवंत लोकतंत्र के रुप में भारत को विश्व की एक प्रमुख शक्ति के रुप में देखा जाता है तो इसके लिए पंडित नेहरु को मुख्य वास्तुकार के रुप में देखा जाना चाहिये। पंडित नेहरु न केवल महान नेता थे बल्कि महान इतिहासकार, दार्शनिक और विद्वान थें। सिंह ने कहा कि कई भाषाओं के जानकार पंडित नेहरू ने आधुनिक भारत के अनेक विश्वविद्यालयों, और सांस्कृतिक संस्थानों की आधारशिला रखी। स्वतंत्रता के बाद देश को जो होना चाहिए वैसा अब तक नहीं हुआ। पुस्तक ‘हू इज भारत माता’ में प्रो पुरुषोत्तम अग्रवाल और प्रो. राधाकृष्ण ने नेहरू को सही परिपेक्ष्य में दिखाने का प्रयास किया है। इस पुस्तक में नेहरू की आत्मकथा सहित उनकी विभिन्न पुस्तकों के अंश, उनके भाषण और साक्षात्कार के अंश संकलित किए गए हैं।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है