Covid-19 Update

58,457
मामले (हिमाचल)
57,233
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,046,432
मामले (भारत)
113,097,102
मामले (दुनिया)

Jio का Logo लगाकर बेच रहे थे आटा, सूरत से चार गिरफ्तार

Jio का Logo लगाकर बेच रहे थे आटा, सूरत से चार गिरफ्तार

- Advertisement -

सूरत। नए कृषि कानूनों पर रिलायंस जियो लगातार निशाने पर है। पंजाब में जियो के टावरों पर हमला भी हुआ था। सोशल मीडिया पर भी रिलायंस जियो (Reliance Jio) को लेकर कई तरह की अफवाहें फैलती रही हैं। इसी बीच रिलायंस जियो के ट्रेडमार्क का गलत इस्तेमाल (Misuse of trademark) करने का एक मामला सूरत में सामने आया है। यहां पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपी जियो ट्रेडमार्क का गैरकानूनी इस्तेमाल गेंहू का आटा बेचने के लिए करते थे। पुलिस ने शिकायत के आधार पर सूरत शहर से यह गिरफ्तारियां की हैं। सूरत के सचिन पुलिस स्टेशन में जियो ब्रांड नाम और उसके लोगो का उपयोग करके गेहूं का आटा बेचने के मामले में राधाकृष्ण ट्रेडिंग कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है।

यह भी पढ़ें: किसान ट्रैक्टर रैली पर सुनवाई टली, SC ने कहा – Delhi में कौन-कैसे करेगा एंट्री पुलिस ले फैसला

सूरत (जोन 3) की पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) विधी चौधरी ने बताया कि मामला ट्रेडमार्क अधिनियम के तहत दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि रिलायंस जियो ने सूरत के सचिन पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है कि राम कृष्ण ट्रेडलिंक नाम की कंपनी जियो ट्रेडमार्क का उपयोग करके गेहूं का आटा बेच रही है। डीसीपी ने बताया कि शिकायत के आधार पर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस में की गई शिकायत (Complaint) के अनुसार, 8 जनवरी को एक राष्ट्रीय समाचार चैनल पर एक खबर दिखाई गई थी, जिसकी हेडलाइन थी ‘जियो डाटा के बाद जियो का आटा’ तफ्तीश में पता चला कि सूरत की राधाकृष्ण ट्रेडिंग कंपनी अपनी आटे की बोरियों पर जियो का लोगो लगाकर आटा बेच रही थी। जियो लोगो के गैरकानूनी इस्तेमाल पर रिलायंस जियो ने सूरत पुलिस आयुक्त से इस बाबत पूछताछ करने का आग्रह किया था। सूरत के राम कृष्ण ट्रेडलिंक कंपनी के आटे की बोरियों को दिखा कर उन्हें जियो का बताया गया। जबकि रिलायंस यह साफ कर चुकी है कि उसका कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से कोई लेना देना नही हैं और ना ही कंपनी किसानों से सीधे कोई खरीद करती है।

शिकायत में आगे कहा गया है कि फर्म, राधाकृष्ण ट्रेडिंग कंपनी गेहूं के आटे के बैग पर जियो का लोगो छापते थे और बाजार में बेचते थे। जबकि रिलायंस इंडस्ट्रीज की जियो या कोई भी अन्य कंपनी किसी भी तरह के कृषि उपज का हिस्सा नहीं है। इन सभी लोगों ने अपने स्वयं के वित्तीय लाभ के लिए जियो के ट्रेडमार्क का दुरुपयोग किया है। इन सभी लोगों और कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के लिए प्राथमिकी दर्ज की गई है। सचिन पुलिस स्टेशन ने ट्रेड मार्क अधिनियम 1999 के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की है और आगे की जांच चल रही है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है