×

चार साल बाद धरती पर गिरेगा स्पेस स्टेशन से अंतरिक्ष पर छोड़ा गया 2.9 टन कचरा!

नासा का दावा किसी को डरने की जरूरत नहीं

चार साल बाद धरती पर गिरेगा स्पेस स्टेशन से अंतरिक्ष पर छोड़ा गया 2.9 टन कचरा!

- Advertisement -

कचरा पृथ्वी ही नहीं बल्कि पृथ्वी से बाहर अंतरिक्ष में भी होता है। जी हां, जो लोग नहीं जानते हैं उन्हें बता दें कि अंतरिक्ष में भी कचरा होता है। यह कचरा सैटेलाइट और उसके लिए इस्तेमाल की जाने वाली बैटरी के रूप में होता है। ऐसे ही इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) से करीब 2.9 टन कचरा अंतरिक्ष में फेंका गया है। यह कचरा (Junk) धरती पर कुछ सालों में पहुंचेगा, लेकिन नासा (NASA) का कहना है कि यह कचरा धरती पर पहुंचने से पहले ही जलकर स्वाह हो जाएगा।


यह भी पढ़ें:इंडिगो की फ्लाइट में महिला ने दिया बच्ची को जन्म, जयपुर के लिए उड़ा था प्लेन

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (International Space Station) से छोड़ा गया 2.9 टन कचरा एक SUV के आकार के डिब्बे का है। अंतरिक्ष में यह कचरा कई सालों तक पृथ्वी की कक्षा में ही चक्कर लगाएगा। बताया जा रहा है कि स्पेस स्टेशन (Space Station) से छोड़ा गया यह कचरा अभी तक तक का सबसे बड़ा हिस्सा है। दरअसल यह कचरा स्पेस स्टेशन में उपयोग में लाई जा रही पुरानी बैटरी का है। उधर, NASA के प्रवक्ता लीआ चेशियर का कहना है कि इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (International Space Station) अब काफी हल्का है, क्योंकि धरती की परिक्रमा लगाने वाली इस प्रयोगशाला (Laboratory) से 2.9 टन वजनी पुरानी बैटरी को अंतरिक्ष में छोड़ा गया है। यह पृथ्वी (Earth) की लोअर अर्थ ऑर्बिट में कई साल तक चक्कर लगाएगा।

यह भी पढ़ें: 9 दिन में 130 डिलीवरी कर कुछ ऐसे मनाई खुशी, डॉक्टर्स का Dance Video हो रहा वायरल

इसके बाद नासा के अधिकारियों (NASA) ने बताया था कि यह स्पेस जंक (Space Junk) यानी अंतरिक्ष का कचरा दो से चार साल बाद पृथ्वी (Earth) पर गिर सकता है। हालांकि इसके साथ ही नासा प्रवक्ता (NASA Spokesperson) ने यह भी बताया है कि स्पेस जंक से किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है। नासा प्रवक्ता (Spokesperson)  के मुताबिक यह स्पेस जंक धरती पर गिरते हुए वायुमंडल में प्रवेश करते ही जलकर खत्म स्वाह जाएगा। हालांकि नासा (NASA) की इस बात पर लोगों को शंका है।

एस्ट्रोनॉमर एंड साइंस राइटर फिल प्लेट ने इस मसले पर ट्विटर पर लिखा कि यह स्पेस जंक (Space Junk) बड़ा है। ऐसे में यह पूरी तरह से जल जाएगा, इसकी संभावना बहुत कम है। इसके बारे में एस्ट्रोनॉमर जोनाथन मैक डोवेल ने भी जवाब (Reply) दिया कि हां, लेकिन दूसरी तरफ तियांगगोंग-1 जो 7500 किलो का है, वो ज्यादा भारी है। मैं पूछना चाहता हूं कि EP-9 (Space Junk) कितना घना है। आपको बता दें कि तियांगगोंग-1 चीन का पहला प्रोटोटाइप स्पेस स्टेशन (Space Station)  है। इसने 2012 और 2013 में एस्ट्रॉनॉट क्रू को होस्ट किया था। स्कूल बस आकार का यह क्राफ्ट अप्रैल 2018 में पृथ्वी पर वापस आते समय दक्षिणी प्रशांत महासागर में क्रैश हुआ था। इसे हाल ही में स्पेस स्टेशन (Space Station) से बाहर निकाला गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है