Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

चड़ी के स्वतंत्रता सेनानी रतन सिंह का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

चड़ी के स्वतंत्रता सेनानी रतन सिंह का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

- Advertisement -

शाहपुर। विधानसभा (Vidhan Sabha) क्षेत्र के गांव चड़ी के स्वतंत्रता सेनानी व शतकवीर रतन सिंह उर्फ माधो राम का निधन हो गया। स्वतंत्रता सेनानी रतन चंद का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। रतन चंद के इकलौते बेटे अमरीक सिंह के अस्वस्थ होने के चलते उनके पोते साहिल ठाकुर ने मुखाग्नि दी। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री सरवीण चौधरी (Cabinet Minister Sarveen Chaudhary), पूर्व कैबिनेट मंत्री मेजर विजय सिंह मानकोटिया, शाहपुर के एसडीएम जगन सिंह ठाकुर व डीएसपी सुनील राणा भी श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे। भारतीय सेना की 16वीं पंजाब बटालियन (Punjab Battalion) की अगुवाई में स्वतंत्रता सेनानी रतन सिंह को सैनिक सम्मान के साथ श्रद्धांजलि अर्पित की और पुलिस (Police) की ओर से उन्हें सलामी देकर अंतिम विदाई दी गई।

सीएम जयराम ठाकुर ने स्वतंत्रता सेनानी रतन सिंह उर्फ माधो राम  के निधन पर शोक व्यक्त किया है।


 

कौन थे स्वतंत्रता सेनानी रतन सिंह

रतन सिंह वो शख्सियत थीं, जिन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) द्वारा गठित आजाद हिंद फौज में एक वीर सैनिक के तौर पर अपनी सेवाएं देकर स्वतंत्रता सेनानी का तमगा हासिल किया था। रतन सिंह नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ रंगून की जेल में कैदी बनकर भी रहे थे, जिन्हें कुछ अरसा एक दूसरे के साथ खान-पान और एक दूसरे को समझने का मौका भी मिला था।

यह भी पढ़ें: परमार बोले- किसी की नागरिकता नहीं छीनेगा CAA, कांग्रेस कर रही गुमराह

नेताजी के बेहद करीबी होने के चलते उनके दिल में भी देश के स्वराज के लिए ठीक उसी तरह तड़प थी, जिस कदर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के दिलो-दिमाग में थी। हालांकि टोकियो जाते वक्त नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अपनी फौज़ को भंग कर सभी सिपाहियों को अपनी-अपनी राह पर जाने का हुकम सुना दिया था। बावजूद इसके देश की आजादी की लौ अपने दिल में लिए हुए कई देशों की यात्रा के बाद रतन चंद स्वदेश तो लौटे लेकिन तब तक देश की आजादी के लिए निस्वार्थ भाव से लड़ते रहे, जब तक की देश आजाद नहीं हो गया। रतन चंद अप्रैल 2016 में शतकवीर बने थे यानी सौ साल के पूरे हुए थे। उन्हें बतौर शतकवीर विधानसभा और लोकसभा के चुनावों के मतदाता होने का भी गौरव हासिल था।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस Link पर Click करें…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है