Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,380,438
मामले (भारत)
227,512,079
मामले (दुनिया)

WHO ने लगाई रोक तो फ्रांसीसी डॉक्टर ने किया दावा- Coronavirus से उबरने में मददगार है हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन

WHO ने लगाई रोक तो फ्रांसीसी डॉक्टर ने किया दावा- Coronavirus से उबरने में मददगार है हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन

- Advertisement -

इन दिनों दुनियाभर में कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के प्रयोग को लेकर वाद-विवाद चल रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने संक्रमित मरीजों के इलाज में इस्तेमाल की जा रही दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पर अस्थायी तौर पर रोक लगा दी है। वहीं, एक फ्रांसीसी डॉक्टर (French doctor) ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि वायरल निरोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) और क्लोरोक्वीन मरीजों को कोरोना वायरस से उबरने में मदद कर सकती है। उसने उस अध्ययन को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया था कि इस दवा का कोई लाभ नहीं है।

यह भी पढ़ें: Covid-19 के कहर के बीच फ्री में Car सैनेटाइज कर रही ये कंपनी; लॉन्च किया नया कैंपेन

 

मार्सेल के रहने वाले डॉक्टर प्रोफेसर डिडियर राउल्ट को संकट की इस घड़ी में फ्रांस में बड़ी पहचान हासिल हुई है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने डॉक्टर राउल्ट से मुलाकात भी की थी। राउल्ट लगातार इस बात को कहते रहे हैं कि इस दवा का स्पष्ट रूप से लाभ है। गौर हो कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald trump) भी लगातार दवा की योग्यता का समर्थन करते रहे हैं। ट्रंप कहते रहे हैं कि वह कोरोना से बचने के लिए एहतियात के तौर पर हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का सेवन कर रहे हैं।

 

डब्ल्यूएचओ ने दुनियाभर में दवा के ट्रायल पर लगाई अस्थायी रोक

बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सोमवार को कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज में इस्तेमाल की जा रही दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पर अस्थायी तौर पर रोक लगा दी। WHO के महानिदेशक टेड्रोस ने कहा कि पिछले सप्ताह लैंसेट में प्रकाशित एक शोध से यह बात सामने आई है कि जो लोग हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा ले रहे थे, उनमें हृदय संबंधी बीमारी का खतरा और यहां तक कि मृत्यु होने की आशंका बढ़ गई थी। यही वजह है कि वैश्विक स्तर पर इस दवा के इस्तेमाल पर फिलहाल अस्थायी रोक लगाई गई है। उन्होंने यह भी कहा कि यह अस्थायी रोक सिर्फ कोरोना के मरीजों को लेकर है, अन्य बीमारी के मामलों में इस दवा के इस्तेमाल संबंधी नियम पर इस रोक का कोई असर नहीं पड़ेगा। इसके साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के इलाज से जुड़े परीक्षण यथावत चलते रहेंगे। बता दें कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन को अमेरिका में साल 1950 के मध्य में लाइसेंस दिया गया था।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है