Covid-19 Update

1,42,510
मामले (हिमाचल)
1,04,355
मरीज ठीक हुए
2039
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

शव लेकर जंजैहली पहुंची Rescue टीम

शव लेकर जंजैहली पहुंची Rescue टीम

- Advertisement -

मंडी। एनआईटी छात्रों के शवों को रेसक्यू टीम ने जंजैहली पहुंचा दिया है। खराब मौसम को दरकिनार कर टीम ने अपने तय समय के दौरान दोनों छात्रों को शवों को जंजैहली पहुंचा दिया। डीएसपी हैडक्वार्टर हितेश लखनपाल का कहना है कि शव निकालते ही रेसक्यू को बंद कर दिया गया है। कल पोस्टमार्टम के बाद शवों को परिजनों के हवाले कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि घर वालों की सुविधा के लिए शवों का पोस्टमार्टम सुंदरनगर में ही करवाया जाएगा।


  • प्रशासन ने बंद किया अभियान कल किया जाएगा पोस्टमार्टम

गौर रहे कि बचाव दल ने बीते दिन ही दोनों छात्रों के शवों को ढूंढ निकाला था। टीम के सदस्य शवों को नीचे  लाने की तैयारी में थे, लेकिन वहां के हालात, ठंड और भारी भरकर बर्फ ने उनकी राह में रुकावट डाल दी। बताया जा रहा है कि रेसक्यू दल ने शिकारी देवी से करीब 6 किलोमीटर नीचे तक शव पहुंचा दिए थे, लेकिन थकावट और ठंड के चलते उनकी हिम्मत जवाब दे गई। दल ने शवों को वहीं बर्फ में गाड़ दिया ओर खुद वापस लौट आए । ताजा जानकारी के अनुसार रेसक्यू दल आज सुबह फिर से शवों को लाने के लिए पहाड़ी पर गए थे, लेकिन वहां खराब मौसम के चलते वह उन्हें नीचे लाने में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं।


छात्रों की मौत को सरकार जिम्मेवारः जय राम ठाकुर
मंडी। सराज से बीजेपी के विधायक एवं पूर्व मंत्री जय राम ठाकुर ने शिकारी देवी में हुई एनआईटी के दो छात्रों की मौत के लिए राज्य सरकार की लापरवाही को जिम्मेवार ठहराया है। मंडी में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन के कारण कई लोगों की मौत हो जाती है और सरकार इन मौतों को रोकने के लिए कोई गंभीर कदम नहीं उठा रही है। जय राम ठाकुर ने वर्ष 2014 में थलौट में हुए हादसे का जिक्र करते हुए कहा कि उस वक्त भी ऐसे स्थानों पर साइन बोर्ड और चौकियां स्थापित करने की बात कही गई थी, जिस पर आज दिन तक कोई काम नहीं हो पाया। उन्होंने कहा कि अगर जंजैहली के पास कोई चौकी होती या फिर साइन बोर्ड लगे होते तो शायद वह छात्र शिकारी देवी नहीं जाते और न ही उनकी मौत होती। जय राम ठाकुर ने सरकार से अनुरोध किया है कि सरकार इस दिशा में ठोस कदम उठाएं, ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटना फिर से न हो सके।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है