Covid-19 Update

2,06,161
मामले (हिमाचल)
2,01,388
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,695,958
मामले (भारत)
199,022,838
मामले (दुनिया)
×

हमारे स्वप्नों की अधिष्ठात्री देवी स्वप्नेश्वरी

हमारे स्वप्नों की अधिष्ठात्री देवी स्वप्नेश्वरी

- Advertisement -

स्वप्न एक ऐसी क्रिया है जो मन के माध्यम से संपन्न होती है और चेतना वह पुल है जो आंतरिक तौर पर हमें बाह्य ब्रह्मांड से जोड़ती है। स्वप्नों का अपना महत्व है और वे हमारे लिए भविष्य का स्पष्ट संकेत होते हैं। देवी स्वप्नेश्वरी हमारे स्वप्नों की अधिष्ठात्री हैं और कोई भी व्यक्ति प्रयत्न करके उन्हें प्रसन्न कर अपनी समस्याओं का समाधान पा सकता है।

सरल विधि इस प्रकार है :

यह साधना किसी भी सोमवार की रात्रि में 11 बजे के बाद शुरू करें । ध्यान रखें कि आपके आसन आदि सफेद हों। दिशा उत्तर होनी चाहिए। देवी स्वप्नेश्वरी का चित्र हो तो उसे स्थापित करें अन्यथा मन में सफेद वस्त्रों वाली, सफेद पुष्पों की माला धारण किए चारों तरफ फैले प्रकाश की दिव्य आभा से प्रकाशित चतुर्भुजा शक्ति का आवाहन करें। फिर अपना प्रश्न तीन बार कह कर प्रार्थना करें कि आपको उसका उत्तर मिल जाए। पूरे 11 दिन तक 11 माला रोज जप करें। मंत्र जप के लिए स्फटिक या रुद्राक्ष की माला प्रयोग करें।
मंत्र-
ऊँ स्वप्नेश्वरी स्वप्ने सर्व कथय-कथय ह्रीं श्रीं ऊँ नम:
यह साधना संपन्न हो जाने के बाद जब भी किसी समस्या का समाधान या किसी प्रश्न का उत्तर पाना हो मन में प्रश्न तीन बार दोहरा कर एक माला जप कर सो जाएं स्वप्न में उत्तर मिल जाएगा।
सोमवार की रात्रि में घर के एकांत कक्ष में फर्श को साफ कर उस पर गोबर का चौका लगाएं। बीच में देशी घी का दीपक जलाएं और सफेद फूल तथा धूप आदि से पूजा करें। नैवेद्य में बताशे रखें तथा निम्न मंत्र का 21 माला जप करें ।


मंत्र-
ऊँ नम: स्वप्न चक्रेश्वरी
स्वप्ने अवतर -अवतर गतं
वर्तमानम् कथय-कथय स्वाहा
जप समाप्त होने के बाद ज्योत की भस्म माथे पर लगा कर वहीं कंबल बिछा कर सो जाएं । यह विधि 61 दिनों में पूरी होती है और इस बीच साधक को फलाहार पर ही रहना पड़ता है। अंतिम दिन 1100 मंत्रों द्वारा हवन करें। बासठवें दिन अन्न ग्रहण करें । इसके बाद जब भी किसी प्रश्न का उत्तर प्राप्त करना हो तो सोमवार को उसी तरह दीप जला कर अगरबत्ती दिखा कर 101 बार मंत्र पाठ करें और अपना प्रश्न मन में कह कर सो जाएं भगवती स्वप्नेश्वरी आपके प्रश्नों का उत्तर स्वप्न में दे जाएगी।

स्वप्न में प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए एक और प्रयोग करें। गुरुवार की आधी रात में सरसों के तेल का एक दीपक प्रज्ज्वलित करें एक फूटी या छेद वाली कौड़ी उस दीपक में डाल दें और नीचे लिखे मंत्र का 1100 बार जप करें।
ऊँ नमो मणिभद्राय चेटकाय
सर्व कार्य सिद्धये मम स्वप्न
दर्शनानि कुरु-कुरु स्वाहा।
जप समाप्त होने के बाद लाल कनेर के पुष्प ले कर उन्हें इसी मंत्र से 108 बार अभिमंत्रित करें। इसके उपरांत इन फूलों को तांबे की डिब्बी में रख कर तकिए के नीचे रख कर सो जाएं। सोने से पूर्व सिरहाने रखी डिब्बी को अपना प्रश्न सुना दें । भगवान मणिभद्र आपके प्रश्नों का उत्तर प्रदान करेंगे।

स्वप्न साधना :

कल क्या होगा, भविष्य में कोई कार्य कब पूर्ण होगा, अच्छे दिन कब आएंगे, बुरे दिन कब समाप्त होंगे, खोई वस्तु मिलेगी या नहीं और घर से भागा हुआ व्यक्ति कब वापस आएगा आदि अनेक प्रश्न मनुष्य को परेशान करते ही रहते हैं। स्वप्न में देवता से बात करने से इन प्रश्नों के उत्तर मिलेंगे।

साधनाविधि:

सामग्री: स्वप्नेश्वरी देवी का चित्र, जलपात्र, केसर, अक्षत, अगरबत्ती, दीपक, माला आदि।
समय : दिन या रात का कोई भी समय।
आसन : सफेद रंग का सूती आसन।
दिशा: पूर्व दिशा।
जप: 51 हजार बार।
अवधि : जो भी संभव हो।
मंत्र: ऊं ह्वीं विचित्र वीर्य स्वप्ने इष्ट दर्शय नम:।

सामने स्वप्नेश्वरी देवी का चित्र कांच के फ्रेम में मढ़वाकर उसकी सामान्य पूजा करें और अगरबत्ती व दीपक जलाकर किसी भी रविवार को मंत्र प्रयोग आरंभ करें। जब मंत्र पूरा हो जाए तो जिस रात्रि को अपने इष्ट देवता से बात करनी हो, उस रात्रि को एक बार उपर्युक्त मंत्र का उच्चारण कर सो जाएं। सपने में इष्ट देवता से बातचीत हो सकती है। आप न केवल इस प्रकार के सभी प्रश्नों के उत्तर पा सकते हैं, बल्कि स्वप्न में भावी घटनाओं को स्पष्ट रूप से देख भी सकते हैं।

एकअन्य तंत्र: गणेश देवि वाग देवी मम वाक्य सिद्धि कु: कु: स्वाहा। शुभ मुहूर्त में, प्रात: वेला में जप प्रारंभ करें। जप संख्या 1100 है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है