Covid-19 Update

2,04,685
मामले (हिमाचल)
2,00,233
मरीज ठीक हुए
3,491
मौत
31,219,374
मामले (भारत)
192,489,942
मामले (दुनिया)
×

Chrome यूजर्स की प्राइवेसी को खतरा: एक्स्टेंशन्स का यूज किया तो Public हो सकती है ब्राउजिंग हिस्ट्री

Chrome यूजर्स की प्राइवेसी को खतरा: एक्स्टेंशन्स का यूज किया तो Public हो सकती है ब्राउजिंग हिस्ट्री

- Advertisement -

नई दिल्ली। अगर आप वेब ब्राउजर गूगल क्रोम (Google Chrome) में गैरभरोसेमंद कंपनी का कई एक्स्टेंशन यूज करते हैं, तो इसे तुरंत हटा लें। दरअसल खबर सामने आई है कि ये थर्ड पार्टी एक्स्टेंशन्स आपके लिए मुश्किल पैदा कर सकते हैं। दरअसल हाल ही में साइबर सिक्योरिटी फर्म अवेक सिक्योरिटी ने बारे में एक खुलासा करते हुए बताया है कि गूगल क्रोम के एक्स्टेंशन्स के जरिए यूजर्स पर स्पाईवेयर (spyware) अटैक हो रहा है। बताया जा रहा है कि स्पाईवेयर अटैक के कारण लोगों की प्राइवेसी (privacy) के साथ खिलवाड़ किए जाने का खतरा है।

यह भी पढ़ें: Haryana: सूबे में जारी है Covid-19 का कहर; गुरुग्राम में चार हजार के पार पहुंचे मामले

3.20 करोड़ बार डाउनलोड किए जा चुके हैं ये एक्स्टेंशन्स

रिपोर्ट के मुताबिक गूगल क्रोम ब्राउजर में यूज किए जाने वाले एक्स्टेंशन्स (Extensions) प्राइवेसी के लिए खतरनाक हैं। इन एक्स्टेंशन्स को 3.20 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है। दुनिया भर में दूसरे वेब ब्राउजर के मुकाबले गूगल क्रोम के सबसे ज्यादा यूजर्स हैं। बता दें कि ब्राउजर्स पर यूजर्स अपने ईमेल से लेकर बैंकिंग रिलेटेड डेटा तक ऐक्सेस करते हैं, ऐसे में डेटा लीक या जासूसी कई स्तर पर नुकसान पहुंचा सकती है। गूगल अल्फाबेट इंक की ओर से कहा गया है कि रिसर्चर्स की रिपोर्ट के बाद 70 से ज्यादा मैलिशस ऐड-ऑन ऑफिशल क्रोम स्टोर से हटाए जा चुके हैं।


यह भी पढ़ें: Punjab सरकार का बड़ा फैसला: शहीदों के परिजनों को अब मिलेगी 50 Lakh की मदद

सेफ ब्राउजिंग का दावा कर लोगों को परोसे जाते हैं एक्सटेंशन

Google के प्रवक्ता स्कॉट वेस्टओवर ने रायटर को बताया कि जब हम वेब स्टोर में हमारी नीतियों का उल्लंघन करने वाले एक्सटेंशन के बारे में जानते है तो हम कार्रवाई करते हैं और उन घटनाओं को प्रशिक्षण सामग्री के रूप में उपयोग करते हैं ताकि हमारे स्वचालित और मैन्युअल विश्लेषण में सुधार हो सके। बता दें कि गूगल क्रोम वेब ब्राउजर पर ये एक्स्टेंशन्स फ्री रहते हैं। इनमें से कई बड़े दावे करते हैं कि अगर आप इसे इंस्टॉल कर लेंगे तो आपकी ब्राउजिंग सेफ हो जाएगी और आप हैकिंग से बच जाएंगे। लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक इसका उलटा हो रहा है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है