Covid-19 Update

58,457
मामले (हिमाचल)
57,233
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,045,587
मामले (भारत)
112,852,706
मामले (दुनिया)

कन्या भ्रूण हत्या : सरकार करवाएगी Sting Operation

कन्या भ्रूण हत्या : सरकार करवाएगी Sting Operation

- Advertisement -

शिमला। कन्या भ्रूण हत्या रोकने और लिंग जांच रोकने को अब प्रदेश सरकार और सक्रिय हो गई है। सरकार अब इन अपराधों को रोकने के लिए स्टिंग आपरेशन करेगी।स्टिंग आपरेशन उन स्थानों पर होंगे जो संवेदनशील हैं। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग जासूसी क्षेत्र की प्रतिष्ठित निजी एजेंसियों से संपर्क कर रहा है। 

  • निजी डिटेक्टिव हायर करेगा स्वास्थ्य विभाग 
  • कन्या भ्रूण हत्या रोकने को उठाया यह कदम 
  • संवेदनशील स्थानों पर किए जाएंगे स्टिंग

राज्य में पड़ोसी राज्य पंजाब और हरियाणा से सटे जिलों में बाल लिंग अनुपात की दर में काफी अंतर है। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने लोगों को कन्या के महत्व समझाते हुए लोगों को कन्या भ्रूण हत्या रोकने के प्रति जागरूक भी किया है। इसके लिए कांगड़ा, ऊना, मंडी, बिलासपुर और हमीरपुर जिलों में विशेष अभियान भी चलाया है। कांगड़ा और मंडी में तो बेटी के जन्म पर बाकायदा धाम का आयोजन किया जा रहा है। इससे लोगों में बेटे से अधिक महत्व बेटी को मिलने भी लगा है, लेकिन कई लोग अभी भी कन्या भ्रूण हत्या में लगे हैं। इसके साथ-साथ कुछ लोग यह पता लगाने में लगे हैं कि गर्भ में बच्चे का लिंग क्या है।

sting2राज्य में निजी क्लीनिकों में यह गोरख धंधा चल रहा है, लेकिन इन पर हो सख्ती से इनके कान भी खड़े हैं और अब बड़े ही संगठित तरीके से काम को अंजाम दिया जा रहा है। कई सोनोग्राफी सेंटर तो पड़ोसी राज्यों की सीमा पर स्थापित किए गए हैं और इस कारण कई बार सीमा विवाद बीच में आ जाता है और इसका लाभ इस कार्य में लगे लोग उठाते हैं। राज्य सरकार पड़ोसी राज्यों से मिलकर इसके खिलाफ लड़ने का ऐलान भी कर चुकी है, लेकिन लड़ाई अंजाम तक नहीं पहुंच रही। प्रदेश में इस समय 172 निजी और 86 सरकारी क्षेत्र में अल्ट्रासाउंड क्लीनिक हैं। इसके अलावा कुछ ऐसे क्लीनिक हैं, जो दूसरे राज्यों की सीमा पर हैं। यानी चंद कदम चल कर लोग दूसरे राज्य में पहुंचते हैं और वहां अल्ट्रासाउंड करवाकर वापस लौट आते हैं। ऐसे क्लीनिक सरकार की नजर में हैं और पर्दे के पीछे रहकर कार्य करने वाले उन सफेदपोश लोगों को समाज के सामने लाना है जो इस कृत्य में शामिल हैं। 

sting1इसे देखते हुए राज्य सरकार के स्वास्थ्य सुरक्षा एवं विनियमन विभाग ने निजी डिटेक्टिव किराए पर लेने की योजना बनाई है। पीसी.पीएनडीटी एक्ट के अधीन सोनोग्राफी मशीन या अन्य किसी विधि द्वारा अवैध लिंग चयन, कन्या भ्रूण हत्या में शामिल केंद्रों को तथ्यों सहित पकड़ने को यह फैसला लिया गया है। इस कार्य के लिए विभाग निजी क्षेत्र की प्रतिष्ठित जासूसी एजेंसियों के साथ एलओआई करने की दिशा में आगे बढ़ रही है। जो एजेंसी इस कार्य में आगे आएगी, उन्हें तथ्यों के साथ ऐसे गोरख धंधा करने वालों को पकड़ना है और तथ्य प्रमाणित होने पर स्वास्थ्य सुरक्षा एवं विनियमन विभाग ऐसे सोनोग्राफी सेंटरों पर कार्रवाई करेगा। जाहिर है ऐसे कदमों से कन्याओं को गर्भ में मारने वालों का पर्दाफाश होगा और इससे राज्य में बेटियों की तादाद बढ़ेगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है