Expand

फूलों का श्रृंगार

फूलों का श्रृंगार

- Advertisement -

मोगरा और चमेली के फूल हमेशा से ही महिलाओं को प्रिय रहे हैं। उत्तर भारतीय महिलाएं जहां साड़ी से मैच करता गुलाब बालों में एक तरफ लगाना पसंद करती हैं, वहीं उन्हें मोगरे की वेणी भी लगाना बेहद प्रिय है।

hair3अपनी पत्नियों को प्यार करने वाले पति घर का जरूरी सामान खरीदने के साथ उनके लिए वेणी ले जाना कभी नहीं भूलते। फिर शाम के खाने के बाद छत पर कुर्सियां डाल कर बैठना और मीठी-मीठी बातें करना। शालीनता के साथ मधुरता का एहसास कराने वाली वेणी कोई गुजरे जमाने की बात नहीं है। यह चलन आज भी है और पत्नी को प्यार करने वाले पति भी मौजूद हैं।

दक्षिण भारhair6तीय महिलाएं इसकी जगह लंबी चोटी में गजरा लगाती हैं। यह उनके प्रतिदिन के श्रृंगार में शामिल हैं यहां बाजारों और चौराहों पर, यहां तक कि सब वे के अंदर भी महिलाएं फूलों का गजरा बेचती हुई दिख जाती हैं।

महिलाएं चाहे दफ्तर जा रही हों, चाहे मजदूरी करने गजरा उनके बालों में बड़े सलीके से सजा होता है। अमूमन यहां दो तरह के गजरे दिखते हैं मोतिये से बने सफेद लंबे गजरे और नारंगी फूलों से बने हुए गजरे जो लंबी चोटी में खूबसूरती से सज जाते हैं। दक्षिण भारतीय स्त्रियां अपनी सुंदर आंखों, सांवले सलोने चेहरे तथा लंबे बालों के लिए जानी जाती हैं। लंबी चोटी के साथ लगाया गया गजरा उनकी संस्कृति की पहचान है और यह किसी पर्व विशेष का नहीं प्रतिदिन का श्रृंगार है।

hair4जूड़ा – बालों के नए स्टाइल के साथ जूड़े का चलन धीरे-धीरे कम होता जा रहा है। एक समय था जब अलग-अलग तरह के जूड़े चलन में आए। पफ वाले जूड़े में शर्मिला, मुमताज और उस दौर की कई अभिनेत्रियां दिखीं तो आगे चल कर रिंग पर बने जूड़े आ गए। सिंगल और डबल रिंग वाले जूड़े जो गर्दन पर ढलके हुए होते थे अधिक पसंद किए गए। जाहिर है कि यह केश सज्जा भारतीय परिधान के अनुरूप थी। वेशभूषा बदली तो बालों का स्टाइल भी बदल गया। अब ज्यादातर खुले बाल रखते हैं या फिर बहुत हुआ तो उन्हें क्लचर से समेट लिया जाता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है