×

Valentines Day : एक दिन मुहब्बत का…

Valentines Day : एक दिन मुहब्बत का…

- Advertisement -

प्यार भरा यह दिन खुशियों का प्रतीक माना जाता है और हर प्यार करने वाले के लिए अलग ही अहमियत रखता है। पश्चिमी देशों में इस दिन की रौनक अपने शवाब पर होती है, पर पूर्वी देशों में भी इसे मनाने का अंदाज अलग होता है।


  • चीन में जहां इसे नाइट ऑफ सेवेंस कहा जाता है वहीं जापान तथा कोरिया में इसे वाइट डे कहते हैं। इस दिन के महत्व को देखते हुए 19वीं सदी में अमेरिका ने आधिकारिक तौर पर इस दिन अवकाश घोषित कर दिया था।

वेलेंटाइन दिवस के प्रतीक क्यूपिड, दिल, गुलाब आदि हैं। यूएस ग्रीटिंग कार्ड के अनुसार पूरे विश्व में प्रतिवर्ष एक बिलियन वेलेंटाइंस एक-दूसरे को कार्ड भेजते हैं। क्रिसमस के बाद कार्डों की लोकप्रियता में यह दूसरे नंबर पर है।

माना जाता है कि वेलेंटाइन डे मूल रूप से संत वेलेंटाइन से जुड़ा है । कहते हैं रोम में तीसरी शताब्दी के दौरान सम्राट क्लाडियस का शासन था । उसने आज्ञा जारी की ,कि उसका कोई भी सैनिक या सैन्य अधिकारी  विवाह नहीं करेगा। संत वेलेंटाइन ने इसका पुरजोर विरोध किया और उन्हीं के कहने पर अनेक सैनिकों और सैन्य अधिकारियों ने विवाह किए। इसे अपराध मानते हुए सम्राट ने संत वेलेंटाइन को फांसी पर चढ़वा दिया । वह दिन 14 फरवरी का था इस लिए उनकी पुण्य स्मृति में यह दिवस मनाया जाता है।

वैसे तो मुहब्बत करना ही गुनाह है, पर भावनाओं की बात करें तो यह खुदा की इबादत की तरह है । वेलेंटाइन वीक में प्यार करने वाले इस सप्ताह के दौरान प्रेम के हर रंग को जीते हैं।

  • वेलंटाइन डे पर दसों दिशाओं से प्रेम की ही प्रतिध्वनि सुनाई देती है। हर दिल तब बेहद ईमानदारी से कहता है-हां मैं प्यार में हूं…

कसमें -वादे तो प्यार की पुरानी पहचान रहे हैं।और इनके बगैर वेलेंटाइन वीक पूरा नहीं होता। गुलाब के फूल से महकता मुहब्बत का यह सफर प्रेम का प्रस्ताव देते हुए चॉकलेट और टेडी से आगे बढ़ता है  और जिंदगी भर की मुहब्बत का वादा देकर रिश्ते को मजबूत बनाता है। कहना सिर्फ यह है कि वादा करिए और उसे पूरी तरह से निभाइए चाहे वह दोस्ती का वादा हो,  स्नेह का हो या फिर मुहब्बत का ।

मुहब्बत के रंग निराले हैं और शायद ही कोई ऐसा होगा जिसकी जिंदगी में मुहब्बत ने कदम न रखा हो । हां , आगे चलकर उसका अंजाम क्या बना इससे भी सभी वाकिफ ही होंगे।

सबसे ज्यादा हैरतअंगेज और सबसे मुश्किल लम्हा वह होता है जब वक्त की सीढिय़ों पर वही बैठा आपको मिल जाए जो कभी आपका वेलेंटाइन था… तब क्या करेंगे आप …? मुंह मोड़कर चले जाएंगे या फिर उसके भी बीते पलों के बारे में जानना चाहेंगे ? भले ही वक्त और हालात बहुत फासले बना देते हैं पर प्यार तो भूलने वाली चीज नहीं है। हर किसी की जिंदगी में एक मौका ऐसा जरूर आता है  जब उसकी मुहब्बत उजड़ जाती है पर अंत यहां तो नहीं होता। इसे गम की तरह न लें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है