Expand

आप भी जान लें…Haripur के ऐतिहासिक कुएं में निकले 5 कमरों का सच

अधिकारी बोले, पुराने समय में पानी भरने की व्यवस्था को लेकर बनाए जाते थे ऐसे चैंबर 

आप भी जान लें…Haripur के ऐतिहासिक कुएं में निकले 5 कमरों का सच

हरिपुर। यहां ऐतिहासिक कुएं की सफाई करने के उपरांत निकले कमरों की खबर के बाद भाषा एवं संस्कृति विभाग के अधिकारियों की टीम ने मौके का दौरा किया। टीम ने कुएं और उसके साथ बने कमरों का निरीक्षण किया। अधिकारियों ने खुलासा किया कि यह कमरे कुएं से पानी भरने की व्यवस्था के चलते बनाए गए हैं।

ऐसे कुएं काफी जगह हैं। पुराने समय में पानी का लेबल नीचे जाने पर आसानी से पानी भरने के चलते कुएं के साथ ऐसे कमरानुमा चैंबर बनाए जाते थे। इस टीम में भाषा एवं संस्कृति विभाग शिमला से  संग्राहलय अध्यक्ष हरी सिंह चौहान, पंजीकरण अधिकारी सुरेश नड्डा तथा महेंद्र सिंह शामिल थे।

टीम ने स्थानीय पत्रकारों तथा अन्य लोगों को साथ लेकर सर्वप्रथम हरिपुर में मिले कमरानुमा चैंबर युक्त कुएं का निरीक्षण किया तथा इसकी तस्वीरों को कैमरे में कैद किया। इसके उपरांत हरिपुर के पुराने राजा के महल, किले, मंदिरों और ऐतिहासिक धरोहरों के बारे में बारीकी से जानकारियां एकत्रित कीं। आए हुए अधिकारियों ने लोगों से आग्रह किया की अगर लोगों के पास कोई पुराने सिक्के या इतिहास से जुड़ी पुख्ता जानकारी हो तो इसकी जानकारी विभाग को दें, ताकि यहां के इतिहास के बारे में पता चल सके।

 

उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि स्थानीय लोग इन धरोहरों के सरंक्षण के लिए एक रजिस्टर्ड कमेटी बनाएं, क्योंकि विभाग के पास ऐतिहासिक धरोहरों के सरंक्षण के लिए पैसे की कमी नहीं है। देखने वाली बात है कि अब दूर-दूर से लोग यहां धरोहरों को देखने आ रहे हैं। इसी तरह आज यहां भटोली स्कूल से बच्चे अध्यापकों के साथ आए थे, जिन्हें विभाग के अधिकारियों द्वारा अपनी संस्कृति को बचाने के लिए प्रेरित किया।

 

Historic Well

​शिमला संग्राहलय के अध्यक्ष हरी सिंह चौहान ने बताया कि कुएं में कमरे निकलने की खबर उन्होंने समाचार पत्रों में पढ़ी और मौके पर आकर निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि पुराने समय में कुएं से पानी भरने के लिए ऐसी व्यवस्था की जाती थी। ऐसे कुएं काफी जगह हैं। पानी का लेबल नीचे चले जाने पर आसानी से पानी भरने के लिए ऐसे चैंबर कुएं में बनाए जाते थे।

ये भी पढ़ेंः Haripur में एक रहस्यमयी गुफा, जहां दिन में भी जाने से लगता है डर, नहीं देखी है तो जरूर देखें …

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Advertisement
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है