Covid-19 Update

58,800
मामले (हिमाचल)
57,367
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,137,922
मामले (भारत)
115,172,098
मामले (दुनिया)

गोरखधंधा: 700 का घी मात्र 200 रुपए में

गोरखधंधा: 700 का घी मात्र 200 रुपए में

- Advertisement -

स्वास्थ्य विभाग की टीम मामले की जांच में जुटी

raid: मोहिंदर भारती/रेवाड़ी। क्षेत्र में देसी घी के नाम पर मिलावटी घी का गोरखधंधा धड़ल्ले से जारी है। यहां 700 रुपए का घी मात्र 200 रुपए में बिक रहा है। इसी पर शिकंजा कसने के लिए स्वास्थ्य विभाग की एक टीम ने बुधवार को शहर के रेलवे रोड व डबल फाटक स्थित मिलावटी घी की दुकानों पर छापेमारी की। छापेमारी  में करीब 150 किलोग्राम देसी घी व 90 किलोग्राम दही के सैंपल लिए। विभाग की इस कार्रवाई से घी विक्रताओं में हडकंप मच गया और कई दुकानदार तो टीम को देख अपने दुकानें बंद कर भाग निकले। आपको बता दें कि रेवाड़ी में देसी घी 200 रुपए किलो में बिक रहा, जबकि बाजारों में घी की असली कीमत 700 रुपए है।  ऐसे में यह जांच का विषय है कि घी  की कीमत  200 रुपए किलो कैसे ली जा रही है।

raid: घी के नाम पर कैमिकल पदार्थ 

दरअसल, रेवाड़ी में देसी घी के नाम पर इन दिनों कैमिकल युक्त पदार्थ की बिक्री हो रही है, जिसे लेकर विभाग को पिछले कई दिनों से शिकायतें मिल रही थीं। उसी पर कार्रवाई करते हुए स्वास्थ्य विभाग की एक टीम ने सिविल सर्जन के निर्देश पर शहर में छापेमारी की और रेलवे रोड स्थित पठान घी भंडार व डबल फाटक स्थित देव घी डेयरी से घी के सैंपल लिए।

इस बारे में लोगों का कहना है कि देसी घी की कीमत 700 की जगह 200 रुपए किलो कैसे हो सकती है। यह घी केमिकल युक्त कोई पदार्थ हो सकता है। मगर विभाग की सुस्ती के चलते यह खेल धड़ल्ले से जारी है और इस धंधे से जुड़े लोग जमकर चांदी कूट रहे हैं। ऐसे में सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह पदार्थ लोगों के लिए कितना जानलेवा साबित हो सकता है। वहीं स्वास्थ्य अधिकारी भी यह मानते हैं कि 200 रुपए किलो में घी उपलब्ध हो ही नहीं सकता। ऐसे में यह जांच का विषय है। उन्होंने कहा कि विभाग का यह अभियान निरंतर जारी रहेगा और मिलावटखोरों को किसी भी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा।

यह भी पढ़ें-स्वास्थ्य विभाग ने लिंग जांच गिरोह के सदस्यों को किया काबू

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है