Winters में नियमित रूप से करें सामान्य व्यायाम

Winters में नियमित रूप से करें सामान्य व्यायाम

- Advertisement -

सर्दियों के बढ़ने पर आर्थराइटिस के रोगियों की पीड़ा भी बढ़ सकती है। इस रोग से पीड़ित लोगों के जोड़ों (ज्वाइंट्स) में दर्द की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे रोगियों को आर्थोपेडिक स्पेशलिस्ट से परामर्श लेकर सर्दियों की शुरुआत में ही शीघ्र ही जांच कराकर इलाज कराना चाहिए। बढ़ती उम्र के कारण जोड़ों की कार्टिलेज के घिसने के चलते डिजनरेटिव अर्थराइटिस (ऑस्टियोअर्थराइटिस) के मामले में उपचार का उद्देश्य रोग की तेजी को धीमा करना होता है। रोग को पैदा करने वाले कारणों पर नियंत्रण बहुत जरूरी है तभी कार्टिलेज के क्षय होने और दर्द को कम करने में मदद मिलती है और रोगी की कार्यक्षमता में भी सुधार होता है। यदि रोगी को तेज दर्द न हो तो दवा या इंजेक्शन थेरेपी से स्थिति में सुधार हो सकता है। यदि जोड़ को गंभीर रूप से नुकसान हुआ हो या जोड़ों में अधिक क्षय हुआ हो, तो आर्थोस्कोपी या आर्थोप्लास्टी जैसे सर्जिकल उपचार के विकल्प आवश्यक हो सकते हैं।

  • नियमित रूप से सामान्य व्यायाम करें। सर्दियों का मौसम लोगों को कम सक्रिय बनाता है और यह विभिन्न प्रकार के जोड़ों की बीमारियां पैदा कर सकता है। सामान्य व्यायाम करने से जोड़ों का दर्द कम होता है।
  • रोजाना 30 से 60 मिनट तक पैदल चलना बोन मिनरल के घनत्व में किसी भी प्रकार की कमी को रोकता है और मांसपेशियों को सशक्त रखने में सहायक होता है। इस तरह आप जोड़ों के आस-पास की मांसपेशियों और लिगामेंट को स्वस्थ रखकर जोड़ों पर पड़ने वाले दबाव को कम कर सकते हैं।
  • व्यायाम के पहले और बाद में स्ट्रेचिंग आपके जोड़ों पर पड़ने वाले भार को कम करती है और इस प्रकार संभावित चोट को रोकने में भी सहायक है।
  • सर्दियों में ठंडा मौसम रक्त संचार (ब्लड सर्कुलेशन) में बाधा पहुंचाता है और मांसपेशियों और लिगामेंट को कड़ा कर देता है, लेकिन स्ट्रेचिंग तनाव वाली मांसपेशियों को आराम पहुंचाती है। स्ट्रेचिंग के लिए किसी प्रकार के उपकरण की आवश्यकता नहीं होती है। फिर भी यह जोड़ दर्द की रोकथाम या इसे कम करने में अधिक प्रभावी है।
  • जोड़ों को गर्म रखने और रक्त संचार को बढ़ाने के लिए गर्म कपड़े पहनने चाहिए। जब आप बाहर जा रहे हों, तो ठंडी हवा से जोड़ों की सुरक्षा के लिए इनर वियर पहनना न भूलें। मत भूलें कि पतले लेयर वाले कई कपड़ों को पहनने की बजाय मोटे लेयर वाले कपड़ों को पहनना गतिशीलता को बनाये रखने और चोट या इंजरी की रोकथाम के लिए अच्छा है।
  • यदि आपके घुटने में सूजन के अलावा दर्द भी हो रहा है, तो गर्म सेंक शुरू करने की बजाय उचित इलाज के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है