Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

सोशल मीडिया अकाउंट्स को आधार से जोड़ना जरूरी? सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

सोशल मीडिया अकाउंट्स को आधार से जोड़ना जरूरी? सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

- Advertisement -

नई दिल्ली। सोशल नेटवर्किंग साइट्स जैसे फेसबुक (Facebook), ट्विटर (Twitter) और व्हाट्सएप (Whatsapp) को भी आधार कार्ड (Aadhar Card) से लिंक कराना जरूरी है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में इसी विषय को लेकर याचिकाएं (Petitions) दायर की गई हैं जिसपर कोर्ट सुनवाई करेगा। इस याचिका में विभिन्न हाई कोर्ट्स में पेंडिंग केसेज़ को सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर करने की मांग उठाई गई है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में फेसबुक, व्हाट्सएप, गूगल, यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सहित सभी याचिका कर्ताओं और सरकार को नोटिस (Notice) जारी किया है, जिसके लिए 2 सितंबर तक का समय दिया गया है। बताया गया कि 13 सितंबर को इस मामले की अगली सुनवाई होगी।

यह भी पढ़ें- भारतीय सीमा में घुसा पाकिस्तानी ड्रोन, संवदेनशील इलाकों की कर गया रैकी

बता दें, प्रोफाइल को आधार से जोड़ने को लेकर फेसबुक मामला ट्रांसफर करने की मांग उठा रही है। फेसबुक ने इसके लिए एक याचिका भी दायर की है जिसके तहत सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र, गूगल (Google), ट्विटर (twitter) और दूसरे सोशल नेटवर्किंग साइट्स को नोटिस जारी किया है। उधर, वॉट्सऐप ने भी कहा है कि पॉलिसी मामले को हाई कोर्ट कैसे तय कर सकती है। ये संसद के अधिकार क्षेत्र में आता है। वॉट्सऐप की तरफ से कहा गया कि सभी मामलों को सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर किया जाए, जिससे वह इस मामले को सुने और निपटारा करें।’


फेसबुक की तरफ से भी मांग की गई की मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट ही करें. फेसबुक का कहना है कि ये निजिता का मामला है। सुप्रीम कोर्ट ने फेसबुक से पूछा मद्रास हाई कोर्ट में कितने याचिका लंबित है। फेसबुक की तरफ से 2 याचिकाओं के बारे में बताया गया। सोशल मीडिया की तरफ से कपिल सिब्बल ने कहा कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट सुने और आदेश जारी करें। ये ग्लोबल मामला है तो ऐसा ना हो कि एक हाई कोर्ट कुछ आदेश पारित करें और दूसरा हाई कोर्ट कुछ और।’ इस याचिका पर कपिल सिब्बल ने कहा कि केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर सोशल मीडिया का पक्ष पूछना चाहिए।

बता दें, इस मामले को लेकर कोर्ट में 18 दिनों तक सुनवाई हुई है, वहीं, फेसबुक की तरफ से कहा गया था कि वो हाई कोर्ट के अधिकार क्षेत्र को मानते है। हर उस तरह के मैसेज जिसमें आपराधिक ऑफेंस शामिल हो या जिससे खुदखुशी को बढ़ावा मिलता है उसे बनाने वाले का पता चलना ही चाहिए। इसके लिए आधार से अकाउंट का लिंक होना जरूरी है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है